चण्डीगढ़,11 जनवरी- हरियाणा की सभी सरकारी व प्राईवेट बसें जल्द ही दिव्यांग-मैत्री होंगी। दिव्यांगों की यात्रा सुलभ करने के लिए हरियाणा सरकार ने यह निर्णय लिया है। इसके तहत परिवहन विभाग द्वारा जहां भविष्य में खरीदी जाने वाली सभी बसें दिव्यांग मैत्री होंगी वहीं पुरानी बसों में रैंप रखवाये जायेंगे।
प्रदेश को दिव्यांग मैत्री बनाये जाने के संबंध में आज यहां हरियाणा के मुख्य सचिव श्री डी.एस. ढेसी की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह जानकारी दी गई। 
बैठक में श्री ढेसी ने परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे सभी जिला बस स्टैण्डों पर दिव्यांगों की सुविधा के लिए व्हीलचेयर रखवाये जायें। इसके अलावा, सभी पुरानी बसों में रैंप रखवाये जायें ताकि बसों को दिव्यांग सुलभ बनाया जा सके। श्री ढेसी ने  सभी प्राईवेट बस आपरेटों को भी बसों में दिव्यांगों की सुविधा प्रदान करने के लिए हिदायतें जारी करने के आदेश दिये।
 मुख्य सचिव को बैठक में बताया गया कि गुरूग्राम जिले की 42 एवं फरीदाबाद जिले की 47 सरकारी इमारतों को जल्द ही दिव्यांग सुलभ बनाया जा रहा है। उन्हें बताया गया कि  गुरूग्राम एवं फरीदाबाद जिले की सरकारी इमारतों के लिए केंद्र सरकार द्वारा अबतक 553.77 लाख रूपये जारी किये जा चुके हैं। उन्हें बताया गया कि प्रदेश के दस जिलों जिनमें पंचकुला, अंबाला, कुरूक्षेत्र, करनाल, पानीपत, सोनीपत, रोहतक, भिवानी, हिसार तथा रेवाड़ी की सरकारी इमारतें, जो सार्वजनिक सेवाएं प्रदान करती हैं, को तीसरे चरण के तहत दिव्यांग सुलभ बनाया जायेगा। 
श्री ढेसी ने कहा कि प्रदेश की 69 वैबसाइटों को भी मार्च 2018 तक दिव्यांग सुलभ बनाया जायेगा जिसके तहत अब तक 16 वैबसाईटों को दिव्यांग सुलभ बनाया जा चुका है। बैठक में बताया गया कि राज्य सलाहकार बोर्ड की बैठक जल्द ही बुलाई जायेगी।
बैठक  में लोक निर्माण भवन एवं सडके विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री आलोक निगम, परिवहन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री आर आर जोवल, सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के प्रधान सचिव श्री देवेन्द्र सिंह, समाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की प्रधान सचिव श्रीमती सुमिता मिश्रा तथा सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव श्री विजेन्द्र कुमार के अलावा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।