चण्डीगढ़, 24 फरवरीः- हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने कहा कि हरियाणा अब खेलों का हब बन चुका है। खेल व पुलिस हरियाणा की खेल नीति के कारण एक-दूसरे के पूरक बन गए हैं। पुलिसबलों ने देश को अनेक प्रतिभाशाली खिलाड़ी दिए है, जिन्होंने देश का गौरव बढ़ाया है।
राज्यपाल ने सोमवार को मधुबन स्थित एच.ए.पी. के वच्छेर स्टेडियम में 68वीं अखिल भारतीय पुलिस कुश्ती समूह प्रतियोगिता का विधिवत शुभारम्भ किया। खुशी का इजहार करते हुए रंग-बिरंगे गुब्बारे व आतिशबाजी हवा में छोड़े गए। हरियाणा के पुलिस महानिदेशक मनोज यादव तथा अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी इस अवसर पर मौजूद थे।
राज्यपाल ने देशभर से आए पहलवानों व खिलाडियों को सम्बोधित करते हुए सबसे पहले इस महत्वपूर्ण आयोजन के लिए हरियाणा पुलिस को बधाई दी। उन्होंने कहा कि हरियाणा के खिलाडियों ने अपनी योग्यता से देश में नाम कमाया है, हरियाणा अब खेलों का हब बन चुका है। उन्होंने कहा कि हरियाणा पुलिस ने अनेक अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी दिए हैं जिनका सम्मान करते हुए 49 खिलाडियों को प्रदेश सरकार ने सरकारी नौकरी दी है। इतना ही नहीं बहुत से खिलाडियों को पुलिस में भर्ती किया गया है। ऐसे अनेक खिलाड़ी आज हरियाणा पुलिस की शान बन चुके हंै। अब हरियाणा में खेल एवं युवा मामले मंत्री का दायित्व भी सरदार संदीप सिंह के पास है, जो हॉकी के विख्यात खिलाड़ी रहे हंै।
राज्यपाल ने कहा कि खेल के आयोजनों से पुलिस जवानों का मनोबल भी बढ़ता है। खेलों से व्यक्ति में टीम भावना के साथ-साथ कत्र्तव्य परायणता की भावना विकसित होती है जो किसी भी कार्य के लिए जरूरी है। खेल व्यक्ति को अनुशासन सिखाता है और स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन है। खेलों के साथ-साथ हरियाणा विभिन्न क्षेत्रों जैसे सेना, कृषि, पशु धन व ऑटोमोबाईल इंडस्ट्रीज में देश का प्रथम राज्य बन गया है।
उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा चलाये गए कार्यक्रमों व योजनाओं को प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने प्रभावी ढंग से लागू किया है, जिससे आज हरियाणा देश का अग्रणी राज्य है। खेलों में हमारी बेटियों ने भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का नाम रोशन किया है। बेटियां भी हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है। यहां तक की सेना में भर्ती होकर देश की रक्षा कर रही हंै। प्रधानमंत्री जी ने सबका साथ सबका विकास तथा सबका विश्वास का भी नारा दिया है। हम सब को साथ मिलकर देश एवं हरियाणा को उन्नति की राह पर ले जाना है।
पुलिस की कार्यशैली और बहादुरी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी देश व प्रदेश में कानून व्यवस्था व शांति स्थापित करने में पुलिस का महत्वपूर्ण योगदान होता है। यही कारण है कि हरियाणा में पुलिस के अधिकारियों व कर्मचारियों की कर्तव्यनिष्ठा व मेहनत की बदौलत ही कानून व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह से सुदृढ़ है। पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को विकट परिस्थितियों में काम करना पड़ता है। ऐसे में जवानों के लिए खेल प्रतियोगिताएं बहुत जरूरी होती है जिससे कर्मचारी तनाव मुक्त होकर अपनी ड्यूटी का निर्वहन करते है।
राज्यपाल ने आगे बताया कि युवा देश की शक्ति होता है। युवाओं को माता-पिता गुरूजनों, जन्मभूमि, मातृभाषा एवं संस्कृति का आदर करना चाहिए। गुरू ज्ञान का दाता एंव पथ-प्रदर्शक होता है। जिनका स्थान भगवान से भी ऊपर है। कहा गया है कि ‘‘गुरू गोबिन्द दोऊ खड़े, काके लागो पाए, बलिहारी गुरू आपने, गोबिन्द दियो मिलाए‘‘। पुलिस विभाग बहुत अनुशासित संगठन है। पुलिस के जवानों में अनुशासन की भावना कूट-कूट कर भरी हुई है। हमारी युवा पीढ़ी को भी इनसे प्रेरणा लेकर अनुशासन, शिष्टाचार एवं नैतिक मूल्यों को जीवन में उतारना चाहिए, क्योंकि अनुशासन ही देश को महान बनाता है।
पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने इस अवसर पर राज्यपाल का स्वागत किया। उन्होंने बताया कि पांच दिवसीय पुलिस क्रीड़ा प्रतियोगिता में कुश्ती, कबड्डी, बॉक्सिंग व बॉडी बिल्डिंग के मुकाबले रहेगें। इनमें देश के 36 भिन्न-भिन्न राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों से विभिन्न रैंक के 2232 खिलाड़ी भाग ले रहे है। इनमें 1656 पुरूष व 576 महिला खिलाड़ी शामिल हैें। उन्होंने आशा व्यक्त करते हूए कहा कि सभी खिलाड़ी प्रतिस्पर्धा, अनुशासन व टीम भावना से खेलेंगे। पुलिस महानिदेशक हरदीप सिंह दून ने आए हुए अतिथियों का धन्यवाद किया।
इस अवसर पर भिन्न-भिन्न राज्यों से आए सभी खिलाडियों ने शानदार मार्च पास्ट किया। मेजबान हरियाणा के खिलाडियों का दल जैसे ही मंच के आगे से गुजरा, दर्शकों ने खूब तालियंा बजाकर उनका उत्साहवर्धन किया। अर्जुन अवार्डी राजेंद्र कुमार ने उपस्थित सभी खिलाडियों को पूरी निष्ठा, खेल भावना और नियमों का पालन करने की शपथ दिलाई।
कार्यक्रम के समापन पर डीएवी पुलिस पब्लिक स्कूल के छोटे-छोटे बच्चों ने शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। मधुबन पुलिस कॉम्पलैक्स के अधिकारियों व शेष हरियाणा के अधिकारियों के बीच रस्साकशी का रोमांचकारी मुकाबला हुआ। जिसमें मधुबन के अधिकारी विजयी रहे।