चंडीगढ़,23.05.17- जिला परिषद दड़ुआ के चुनाव में रोचक मुकाबला देखने को मिल रहा है। जहां एक तरफ चाचा-भतीजा यानी निवर्तमान पंचायत समिति चंडीगढ़ के चेयरमैन शिंगारा सिंह व उनके भतीजे गांव दडुआ के सरपंच कांग्रेस समर्थित गुरप्रीत सिंह हैप्पी आमने-सामने हैं वहीं सुनील गुप्ता भी पूरे दमखम के साथ मैदान में डटे हैं। उनको भाजपा के सांसद व दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी, जो जाने-माने भोजपुरी फिल्म अभिनेता व गायक भी हैं, का करीबी माना जाता है। उन्होंने पूर्वांचल चंडीगढ़ विकास महामंच का गठन किया हुआ है जिसके वह अध्यक्ष हैं। इसके बैनर तले कल 24 मई को बीच चुनाव में मनोज तिवारी व भोजपुरी अभिनेत्री शुभी शर्मा का सांस्कृतिक समारोह गांव दड़ुआ में रेलवे स्टेशन के पास रख दिया है। इन दोनों कलाकारों के कार्यक्रम के जरिए वह यहां पूर्वांचलियों के वोटों का ध्रुवीकरण करने में जुटे हैं। वह कुछ माह पहले भी मनोज तिवारी को माता के जागरण में यहां बुलवा चुके हैं। गुप्ता पूर्वांचलियों के साथ-साथ गढ़वालियों व अन्य वर्गों का भी समर्थन होने का दावा कर रहे हैं।

 मनोज तिवारी पड़ सकतें हैं भारी

सुनील गुप्ता के कई स्थनीय भाजपा नेताओं के साथ भी अच्छे सम्बन्ध हैं जिनमें प्रमुख तौर पर पार्षद व पूर्व महापौर अरुण सूद, वरिष्ठ उप महापौर देवेश मोदगिल, पार्षद सतीश कैंथ व चंद्रावती शुक्ला, सांसद किरण खेर के पीऐ उमाशंकर तिवारी आदि शामिल हैं परन्तु भाजपा के समर्थित उम्मीदवार व वरिष्ठ नेता शिंगारा सिंह के भी चुनाव मैदान में होने के कारण इनमें से किसी के भी गुप्ता के समर्थन में खुल कर सामने आने की संभावना नहीं है। परन्तु फिर भी उनके प्रचार अभियान व अनोज तिवारी के कार्यक्रम ने पुराने धुरंधरों को अपनी रणनीति बदलने को सोचने को मजबूर कर दिया है।  

 उधर धवन के नज़दीकी धीमान भी डटे हैं मैदान में

जिला परिषद् की एक सीट के लिए यहाँ से कुल चार उम्मीदवार मैदान में हैं। चौथे प्रत्याशी देवी राम धीमान हैं जो भाजपा के कद्दावर नेता हरमोहन धवन के करीबी हैं। धीमान भी यहां काफी आक्रामक चुनाव प्रचार अभियान छेड़े हुए हैं जिससे चुनाव में बहुकोणीय मुकाबला बनता दिख रहा है।