दिल्ली-रेवाड़ी रेल लाइन के विद्युतीकरण का टेंडर फाइनल हो गया है:केंद्रीय योजना एंव शहरी विकास, आवास राज्य मंत्री राव इंद्रजीत
चंडीगढ़, 18 जून- केंद्रीय योजना एंव शहरी विकास, आवास राज्य मंत्री राव इंद्रजीत ने आज कहा है कि दिल्ली-रेवाड़ी रेल लाइन के विद्युतीकरण का टेंडर फाइनल हो गया है कंपनी एलएंडएफएस ने रेवाड़ी से विद्युतीकरण के कार्य को शुरू करने के लिए कार्रवाई प्रारंभ कर दी है।
राव इन्द्रजीत ने बताया कि रेवाड़ी के रेलवे स्टेशन पर महिला यात्रियों के लिए वातानुकुलित वेटिंग रूम सहित साधारण श्रेणी प्रतिक्षालय की सुविधा यात्रियों को मिलने जा रही है। 20 जून को इसका शुभारंभ रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु जयपुर से शुरू करने जा रहे है। वहीं सीकर-दिल्ली सराय रोहल्ला त्रि-साप्ताहिक नई रेल सेवा का संचालन शुरू होगा।
उन्होंने बताया कि दिल्ली-रेवाड़ी रेल लाइन का विद्युतीकरण पहले फेज में व दूसरे फेज में अलवर-जयपुर रेल लाइन के विद्युतीकरण का कार्य पूरा होगा। इस प्रकार दिल्ली-रेवाड़ी के रेल विद्युतीकरण का काम मार्च 2018 में पूरा कर लिया जाएगा। इस रूट के विद्युतीकरण होने के बाद दैनिक रेल यात्रियों व लंबी दूरी यात्रा करने वाले रेल यात्रियों को नई टे्रनों व नई पैसेंजर टे्रनों का लाभ मिल सकेगा। 
उन्होंने बताया कि सीकर-दिल्ली सराय रोहिल्ला टे्रन के रेवाड़ी, कनीना, पटौदी रोड व गुडग़ंाव ठहराव से यात्रियों को एक्सप्रैस टे्रेन की सुविधा का लाभ मिल सकेगा। इस नई रात्रिकालीन रेल सेवा के शुरू होने से रेवाड़ी से दिल्ली की ओर अलसुबह जाने वाले रेल यात्रियों को लाभ होगा वहीं देर रात अपना काम निपटा वापस लोगों को रेवाड़ी व पटौदी रोड जैसे स्टेशनों के यात्रियों को सुवधिा मिल सकेगी। 
केंद्रीय राज्य मंत्री ने बताया कि रेवाड़ी को पिछले रेलवे बजट में उनकी मांग पर रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ए ग्रेड श्रेणी के रेलवे स्टेशन में शामिल किया था। राव ने कहा कि रेवाड़ी पूराने जमाने से रेलवे का बडा जंक्शन रहने के साथ्ज्ञ गौरवशाली इतिहास रेल में रहा है ऐसे में उनका प्रयास है कि ब्राडगेज में रेल लाइन तबदील होने के बाद भी रेवाड़ी रेलवे स्टेशन का गौरव बना रहे। उन्होंने कहा कि रेवाडी के रेलवे स्टेशन पर एक्सेलेटर सहित अन्य सुविधाएं भी लोगों को भविष्य में मिलेगी।

=======================================================================================

हरियाणा की शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती कविता जैन ने कहा है कि सोनीपत नगर निगम में शामिल हुए गांवों में नागरिकों की मूलभूत सुविधाओं में बढोतरी पर तेजी से काम किया जा रहा है।

चंडीगढ़, 18 जून- हरियाणा की शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती कविता जैन ने कहा है कि सोनीपत नगर निगम में शामिल हुए गांवों में नागरिकों की मूलभूत सुविधाओं में बढोतरी पर तेजी से काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अब तक निगम गांवों में 8 करोड रूपए से विकास कार्य करवाए जा चुके हैं, जबकि 10 करोड़ रूपए से ज्यादा के विकास कार्य प्रगति पर हैं। भविष्य में भी लोगों की मांग के अनुरूप सडक, गली, पार्क, तालाब, सामुदायिक केंद्र निर्माण करवाने का खाका तैयार किया जा रहा है। 
रविवार सुबह शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन ने बहालगढ़ रोड पर ट्रक यूनियन से फाजिलपुर तक डेढ़ करोड़ रूपए की राशि खर्च कर सडक का चौडीकरण एवं विस्तारीकरण का नारियल तोडकर कर शिलान्यास किया, जबकि हाकी खिलाडी कंगना ने 50 लाख रूपए की राशि खर्च कर बहालगढ़ रोड पर फिम्स अस्पताल के पास से राठधना वाया स्पोट्र्स काम्पलेक्स सेक्टर चार तक बनने वाली सडक़ निर्माण कार्य का नारियल तोडक़र शिलान्यास किया। 
मंत्री ने कहा कि फाजिलपुर में 2 करोड़ रूपए की राशि खर्च करते हुए 10 विकास कार्य करवाए जा चुके हैं, जबकि पौने दो करोड़ रूपए खर्च करते हुए सामुदायिक केंद्र, पार्क विस्तारीकरण एवं सौंदर्यीकरण, स्ट्रीट लाइट लगाने, विभिन्न गलियों का निर्माण करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि फाजिलपुर में नाला निर्माण और प्राइमरी स्कूल के शैड के एस्टीमेट तैयार किए जा रहे हैं, जिनपर 62 लाख रूपए की राशि खर्च की जाएगी। उन्होंने बताया कि राठधना में एक करोड़ रूपए के विकास कार्य करवाए जा रहे हैं, जिसमें एससी बस्ती में चौपाल, निगम जमीन की चारदीवारी, शहीद नानकचंद के स्मारक की विशेष रिपेयर करवाई जा रही है, जबकि मुख्य अड्डा से सामान्य चौपाल तक फिरनी का निर्माण जल्द शुरू होने वाला है। 
भाजपा प्रदेश मीडिया विभाग प्रमुख राजीव जैन ने कहा कि सरकार निगम में शामिल हुए गांवों के विकास के लिए तेजी से योजनाएं तैयार करवाते हुए काम कर रही है। उन्होंने कहा कि इन क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति को सुचारू करने के लिए अमु्रत योजना के तहत टेंडर प्रक्रिया में है, जिसके शुरू होने के बाद लंबे समय तक इन क्षेत्रों के पीने के पानी की परेशानी का समाधान हो जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार क्षेत्रवाद की बजाय सबका साथ-सबका विकास तर्ज पर विकास कर रही है। उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार के दौरान चल रही भेदभाव की परंपरा को खत्म किया जा चुका है, यही कारण है कि हर क्षेत्र में विकास कार्य समान भाव से हो रहा है। 
===========================================
 हरियाणा की शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती कविता जैन ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा हर युवा को कुशल बनाना है, क्योंकि युवाओं का कौशल विकास होगा, तभी युवा भारत का निर्माण होगा।
चंडीगढ़, 18 जून- हरियाणा की शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती कविता जैन ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा हर युवा को कुशल बनाना है, क्योंकि युवाओं का कौशल विकास होगा, तभी युवा भारत का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि हमारा मकसद देश के युवाओं को ऐसा माहौल देना है, जिसमें वह देश व समाज की तरक्की का मार्ग प्रशस्त कर सकें।
श्रीमती जैन आज सोनीपत में आर्यभट्ट गु्रप आफ इंस्टीट्यूशन द्वारा राष्ट्रीय कौशल विकास निगम द्वारा संचालित कौशल विकास योजना के तहत सोनीपत में लगाए गए पहले कौशल मेले के उद्घाटन अवसर पर पहुंची थी। 
कौशल मेला का दीप प्रज्ज्वलित करके शुभारंभ करते हुए मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार चाहती है कि देश का युवा अपने पैरों पर खड़ा हो, इसके लिए उनके कौशल का विकास किया जाना पहली प्राथमिकता है। देश की आबादी के 60 फीसदी युवा संसाधन को दिशा देने के लिए आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुद्रा बैंकिंग, कौशल विकास योजना, स्टार्टअप योजना, स्टैंडअप योजनाएं शुरू की हैं। हमें मिलकर युवाओं को प्रोत्साहित करना होगा, ताकि वह उन कार्यक्षेत्रों में काम करने के लिए प्रशिक्षण लें, जिसमें वह कुशल बन कर स्वरोजगार के क्षेत्र में तथा निजी क्षेत्र में मानव संसाधन की आवश्यक्ता की पूर्ति कर सकें। 
उन्होंने कहा कि प्रदेश में राज्य शहरी विकास प्राधिकरण के माध्यम से 95 कौशल विकास केंद्र संचालित किए जा रहे हैं, जिसमें पहले चरण में 8500 युवाओं को प्रशिक्षण देकर रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। मुद्रा बैंकिंग के फायदे बताते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में 60 प्रतिशत से अधिक युवतियों ने योजना का लाभ उठाया है, जिससे स्पष्ट है कि युवतियां भी योजना और अपने करियर को लेकर जागरूक हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा पलवल के दुधोला में भगवान विश्वकर्मा कौशल विकास विश्वविद्यालय की स्थापना की जा रही है, ताकि हमारे देश के भविष्य को सशक्त युवाओं के हाथ में सौंपा जा सके। 

===================================================================================

केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 19 जून, 2017 को नई दिल्ली में आयोजित होने वाले समारोह में हरियाणा सरकार को महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गांरटी स्कीम और प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण (पीएमएवाई-जी) के क्रियान्वयन में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए अवार्ड प्रदान करने का निर्णय लिया है।

चंडीगढ़, 18 जून- केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 19 जून, 2017 को नई दिल्ली में आयोजित होने वाले समारोह में हरियाणा सरकार को महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गांरटी स्कीम और प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण (पीएमएवाई-जी) के क्रियान्वयन में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए अवार्ड प्रदान करने का निर्णय लिया है। 

हरियाणा सरकार की ओर से यह पुरस्कार विकास एवं पंचायत विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव सुश्री नवराज संधू प्राप्त करेंगी। 
आधार से जोडऩे और रूपांतरण के प्रदर्शन की श्रेणी के तहत हरियाणा सरकार को यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा, जिसके लिए सरकार ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गांरटी स्कीम के तहत प्रबन्धन सूचना प्रणाली (एमआईएस) में प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के सभी सक्रिय श्रमिकों को आधार से जोडऩे का कार्य पूरा किया है। इसके परिणामस्वरूप श्रमिकों के वेतन की अदायगी आधार आधारित अदायगी में परिवर्तित कर दी गई है, जो सीधे उनके खातों में जमा होती है। 
इस श्रेणी के तहत पंजीकरण, जियो-टैगिंग और पीएमएवाई-जी में स्वीकृति के कार्य में उल्लेखनीय प्रदर्शन के लिए हरियाणा सरकार को प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में कच्चे घरों की पहचान करने के लिए यह पुरस्कार दिया जाएगा। योजना के तहत इन घरों को नये घर के निर्माण के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। केन्द्र सरकार द्वारा आवंटित लक्ष्य के विरूद्ध एमआईएस आवास सॉफ्ट में प्रदेश ने ज्यादा से ज्यादा पंजीकरण, जियो-टैगिंग और स्वीकृति प्रदान करने में उपलब्धि हासिल की है। 
==============================================
हरियाणा के शहरी एवं ग्राम आयोजना विभाग ने प्रदेश में कारोबार की स्थापना को आसान बनाने के उद्देश्य से ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के प्रोत्साहन हेतु विस्तृत कार्य बिन्दु जारी किए हैं। 
चंडीगढ़, 18 जून- हरियाणा के शहरी एवं ग्राम आयोजना विभाग ने प्रदेश में कारोबार की स्थापना को आसान बनाने के उद्देश्य से ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के प्रोत्साहन हेतु विस्तृत कार्य बिन्दु जारी किए हैं।
विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि सभी संबंधित व्यक्तियों को इन निर्देशों का अक्षरश: पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।
औद्योगिक भूमि उपयोग परिवर्तन (सीएलयू) मामलों समेत औद्योगिक प्लाटों के लिए लागू निर्देशों का उल्लेख करते हुए उन्होंने बताया कि चूंकि हरियाणा भवन संहिता 2017 में औद्योगिक प्लॉटों के मामले में भवन नक्शों और कब्जा प्रमाण पत्र के स्वप्रमाणीकरण का प्रावधान है। इसलिए इस संबंध में हरियाणा भवन संहिता 2017 का अक्षरश: पालन किया जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त, सभी क्षेत्रीय अधिकारी पिछले दो वर्षों के दौरान अर्थात एक जून, 2015 से जारी किए गए भवन नक्शों, कब्जा या पूर्णता मामलों से संबंधित निरीक्षण रिपोर्ट विभाग द्वारा विकसित सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन (सीआईएस) पर अपलोड करेंगे। उन्होंने बताया कि रिपोर्ट अपलोड करने के संबंध में विस्तृत निर्देश सभी क्षेत्रीय अधिकारियों को अलग से ई-मेल द्वारा भेजे गए हैं। 
प्रवक्ता ने बताया कि जिन औद्योगिक प्लॉटों के संबंध में हरियाणा भवन संहिता 2017 के प्रावधान के अनुसार भवन नक्शों और कब्जा प्रमाण पत्र का स्वप्रमाणीकरण लागू नहीं है, ऐसे सभी मामलों में एक संयुक्त स्थल निरीक्षण किया जाएगा और स्थल निरीक्षण रिपोर्ट,  निरीक्षण के 24 घंटों के अंदर अपलोड करनी होगी। यह स्थल निरीक्षण ‘संयुक्त स्थल निरीक्षण टीम’ द्वारा किया जाएगा, जिसमें फील्ड, सर्कल या हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण से संबंधित अधिकारी और कर्मचारी शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि यदि संयुक्त स्थल निरीक्षण टीम के गठन के संबंध में आदेशों की आवश्यकता है तो ये संबंधित वरिष्ठ नगर योजनाकार के स्तर पर जारी किए जा सकते हैं।
सभी मामलों में लागू सामान्य निर्देशों का उल्लेख करते हुए उन्होंने बताया कि हरियाणा भवन संहिता 2017 ने डीपीसी प्रमाण पत्र प्राप्त करने की आवश्यकता समाप्त कर दी है। इसके अनुसार डीपीसी प्रमाण पत्र प्राप्त करने की परंपरा बंद हो जाएगी और कम्पोजिशन पॉलिसी में वर्णित डीपीसी प्रमाण पत्र न खरीदने पर कम्पोजिशन चार्जिज समाप्त समझे जाएंगे।
उन्होंने बताया कि भवन नक्शों और कब्जा प्रमाण पत्रों के अनुमोदन से संबंधित सभी मामले, प्राप्त किए जाने वाले शपथ पत्र, यदि कोई है, एक शपथ पत्र में समायोजित हो जाएंगे। भविष्य में भवन नक्शों, कब्जा प्रमाण पत्र, पूर्णता, आंशिक पूर्णता, जोनिंग तथा डिमार्केशन प्लान से संबंधित सभी निरीक्षण रिकॉर्ड ऐसे निरीक्षण के 24 घंटे के अंदर अपलोड की जाएंगी।