सोलन -दिनांक 23.09.2017-सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. कर्नल धनीराम शांडिल ने कहा कि प्रदेश में मनाए जाने वाले विभिन्न मेलोें एवं उत्सवों को लोक कलाओं के संवर्द्धन का माध्यम बनाया जाना चाहिए। डॉ. शांडिल गत दिवस सोलन विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत शमरोड़ के धर्जा मंे आयोजित मेला समारोह की अध्यक्षता कर रहे थे। 
डॉ. शांडिल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश को समूचे विश्व में अपनी लोक लुभावनी संस्कृति तथा विशिष्ट लोक कलाओं के लिए जाना जाता है। इनके संवर्द्धन से जहां विभिन्न सांस्कृतिक आयामों का प्रचार-प्रसार सुनिश्चित होता है वहीं पर्यटन को भी बढ़ावा मिलता है। उन्होंने कहा कि संस्कृति, लोक कला एवं स्थानीय व्यंजनों की जानकारी शिक्षित बेरोजगार युवाओं को रोजगार एवं स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवा सकती है। उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि वे अपनी संस्कृति के विभिन्न पहलुओं को समझें।  
सामाजिक न्याय एंव अधिकारिता मंत्री ने कहा कि गत पौने पांच वर्षों में प्रदेश सरकार ने राजनीतिक विचारधारा से उपर उठकर एकसमान विकास किया है। उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा यह सुनिश्चित बनाया गया है कि समाज के विभिन्न वर्गों के पात्र लोगों को समय पर योजनाओं के लाभ मिलें। वर्तमान में 4 लाख पात्र व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पैंशन प्रदान की जा रही है। सोलन जिले में भी 20 हजार 114 पात्र वृद्ध, विधवाओं, दिव्यांगों तथा कुष्ठ रोगियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्रदान की जा रही है। जिले में इस कार्य पर अब तक 48 करोड़ रुपए व्यय किए गए हैं। 
उन्होेंने कहा कि शमरोड़ पंचायत में गत पौने पांच वर्षों में 68 लाख रुपए के विकास कार्य किए गए हैं। 
उन्होंने इस अवसर पर मेला समिति धर्जा को अपनी एच्छिक निधि से 5100 रुपए तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों को 1100 रुपए प्रदान करने की घोषणा की। 
इस अवसर पर कुश्ती तथा कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया।
ग्राम पंचायत शमरोड़ की प्रधान प्रतिभा चौधरी ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया। मेला समिति के प्रधान राम गोपाल चौधरी ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया। 
खण्ड कांग्रेस समिति सोलन के अध्यक्ष तथा ग्राम पंचायत नौणी के प्रधान बलदेव ठाकुर, ग्राम पंचायत ओच्छघाट के प्रधान वेदप्रकाश, ग्राम पंचायत धरोट के प्रधान रणवीर सिंह ठाकुर, खण्ड विकास अधिकारी डॉ. प्रियंका चन्द्रा, भाषा कला एवं संस्कृति अकादमी के सदस्य मदन हिमाचली सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति तथा क्षेत्रवासी इस अवसर पर उपस्थित थे। 
.0.
 
 
2 Attachments