रोहतक, 14 नवम्बर। स्थानीय पावर हाऊस स्थित ग्लोबल किड्स किंगडम में बाल दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर बच्चों ने बालगीत, नाटिका व नृत्य प्रस्तुत कर उपस्थितजनों का मन मोह लिया। स्कूल प्राचार्या रिशु सिवाच ने कहा कि सभी बच्चे अपने आप में अलग प्रतिभा युक्त होते हैं और यही भिन्नता उनको विशेष बनाती है। बाल दिवस की नींव 1952 में रखी गई थी और सन 1953 में इसे दुनिया भर में मान्यता मिली। भारत में इसे 14 नवम्बर को पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की जन्मतिथि के दिन मनाया जाता है। चाचा नेहरू बच्चों से बेहद लगाव रखते थे इसीलिए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। 

रिशु सिवाच ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने ठीक कहा है कि बच्चों पर निवेश करने की सबसे अच्छी चीज है अपना समय और अच्छे संस्कार देना। उन्होंने कहा कि श्रेष्ठ बालक का निर्माण सौ विद्यालयों को बनाने से भी बेहतर है। इस अवसर पर स्कूल अध्यापकों के योगदान से बच्चों ने मनमोहक नाटिका प्रस्तुत की। जिसे सभी ने खूब सराहा। इस अवसर पर अलग-अलग कक्षाओं के छात्र वंश, वान्या नारंग, आरव चौधरी, प्रिशा, मनस्वी, आर्यवीर व ईशिता की प्रस्तुतियां बेहतरीन रही। इस अवसर पर रेशु, सपना, दया, निधि, मनीषा, रितु, सुनैना, बीनू, ज्योति, सोनिका, सुमित बेदी आदि अध्यापक मुख्य रूप से मौजूद रहे।