इंटक जिलाध्यक्ष खिमी राम चौहान को दोबारा से कुल्लु  जिला अध्यक्ष की कमान मिलने पर कुल्लु जिला इंटक ने बजौरा में फूल माला पहना कर भव्य स्वागत किया
कुल्लू -  03 दिसंबर 2017-इंटक जिलाध्यक्ष खिमी राम चौहान को दोबारा से कुल्लु  जिला अध्यक्ष की कमान मिलने पर कुल्लु जिला इंटक ने बजौरा में फूल माला पहना कर भव्य स्वागत किया इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश शैडो फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष दीन दयाल भारती ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की साथ ही अन्य सामाजिक संस्थाओं के कार्यकर्ताओं ने खिमी राम चौहान की ताजपोशी पर खूब गर्मजोशी से स्वागत किया
इस अवसर पर जिला इंटक उपाध्यक्ष श्रीमती चुन्नी देवी, भूमि सिंह,तेजा सिंह,हुकम राम, शकुंतला देवी, तारा चंद,वेद राम, सेस राम,राकेश, महेंद्र, हरिदास, तरुण,पन्नी, इंटक संस्था के महासचिव खूब राम आज़ाद विशेष तौर पर उपस्थित रहे
कार्यक्रम की अध्यक्षता हिमाचल प्रदेश शैडो फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष दीन दयाल भारती ने की इंटक जिलाध्यक्ष खिमी राम चौहान और दीन दयाल भारती ने कहा कि मजदूरों और कामगारों  को एकत्रित होकर अपनी सुविधाओ और हक को प्राप्त करने के लिए संघर्ष करते रहना चाहिए ताकि शोषण से उनकी मुक्ति हो सके 

==========================================================================================
कुल्लू -  03 दिसंबर 2017

कुल्लू के लिए बनेगी विकास योजना: डा. गुलेरिया
वर्ष 2035 तक की जरुरतों के मद्देनजर बनाई जाएगी यह योजना
नगर एवं ग्राम योजना मंडल कुल्लू ने किया कार्यशाला का आयोजन
कुल्लू घाटी योजना क्षेत्र के लिए जीआईएस आधारित विकास योजना को लेकर शनिवार को जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के सम्मेलन कक्ष में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। नगर एवं ग्राम योजना मंडल कुल्लू द्वारा अमृत योजना के अंतर्गत आयोजित इस कार्यशाला की अध्यक्षता सहायक आयुक्त डा. अमित गुलेरिया ने की। 
  इस अवसर पर जीआईसी आधारित विकास योजना बनाने वाली कंपनी के प्रतिनिधियों और सहायक नगर योजनाकार ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ व्यापक चर्चा की। उन्होंने पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से इस योजना के विभिन्न पहलुओं की विस्तृत जानकारी दी। 
डा. गुलेरिया ने बताया कि जीआईसी आधारित विकास योजना वर्ष 2035 तक बनाई जा रही है। इसलिए सभी अधिकारी अपने-अपने विभागों से संबंधित सूचनाएं व प्रस्तावनाएं कंपनी को उपलब्ध करवाएं, ताकि इन्हें विकास योजना में शामिल किया जा सके और आने वाले वर्षों की जरुरतों के अनुसार ही विकास योजना को तैयार किया जा सके। सहायक आयुक्त ने कहा कि विकास योजना का प्रारूप तैयार होने के बाद इसे आम जनता के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा तथा उनके सुझाव व आपत्तियां आमंत्रित की जाएंगी।