कुल्लू, 17 दिसंबर। देवभूमि कुल्लू एवं लाहुल-स्पीति की बेटियों ने जहां आसमान की बुलंदियां छुने में कोई कसर नहीं छोड़ी है वहीं, यहां के युवाओं के हुनर व प्रतिभा का भी देश दीवाना है। देवभूमि कुल्लू के एक दुर्गम गांव के युवा राम शर्मा ने जहां आयुर्वेदा व आर्गेनिक खेती के विषय में बैंकॉक में थाईलैंड के प्रधानमंत्री से अंतरराष्ट्रीय युवा व्यवसायी पुरस्कार हासिल किया है वहीं, अब इस युवा ने देश को इलैक्ट्रिक वाहन देने का बुलंद हौसला जग जाहिर किया है। राम शर्मा ने पर्यावरण को बचाने के लिए इलैक्ट्रिक वाहनों के प्रचलन को शुरू किया है। इसी कड़ी में राम ने दिल्ली में ई-रिक्शा  वाहनों को लॉच करके शुरूआत की है और अब हिमाचल के जिला कुल्लू में 20 दिसंबर को इन वाहनों की शुरूआत करने जा रहे हैं। ताकि देश को बढ़ते पर्यावरण प्रदुषण के दुषपरिणामों के खतरे से बचाया जा सके। गौर रहे कि जहां डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री विश्व में बहुत तेजी से लोगों को रोजगार मुहैया करवा रही है। भारत सरकार द्वारा सितंबर 2016 में इसकी गाइड लाइंज जारी कर दी गई है , जिसे राज्य सरकारे धीरे-धीरे अपने अपने राज्यों में लागू करने में जुट गई हैं। इस कड़ी में कुल्लू के निवासी राम शर्मा ने 2014 में वेदज ग्रुप संस्था की स्थापना की, और चंडीगढ़ से पूरे देश में आयुर्वेद, ओर्गानिक खेती को बढ़ावा देने के साथ अब आने वाले वक्त में पर्यावरण को बचाने के लिए इलैक्टिक वाहन को लाकर एक नई पहल की है। राम शर्मा ने दिल्ली और बड़ौदरा में ई-वाहनों के प्लांट शुरू कर दिए हैं ताकि देश के हर राज्यों के हर कस्बों में इन वाहनों को प्रचलित कर हिमालय के पर्यावरण को प्रदुषण मुक्त करवाया जा सके। सनद रहे कि इस  देवभूमि कुल्लू की माटी के गवरू ने देश का नाम दुनियाभर में रोशन किया है। कुल्लू जिला के दुर्गम गांव दलयाड़ा के युवक राम शर्मा ने अपने हुनर के बलबुते पूरे देश में अपने व्यवसाय को फैलाकर लाखों युवाओं को रोजगार की नई दिशा की ओर अग्रसर किया है। यही नहीं हिमालय के हिम आंचल में पैदा हुए इस युवक ने यहां की जड़ी बुटियों को आधार बनाकर देशभर में आयुर्वेद का प्रचार करके नाम कमाया है। वहीं, इस युवा व्यवसायी के टेलैंट को देखते हुए इस युवक को अंतराष्ट्रीय ग्लोबल अवॉर्ड 2017 दिया गया है। इस अंतराष्ट्रीय ग्लोबल अवॉर्ड का आयोजन 18 अगस्त को बैंकाक के होटल होलीडे इन में आयोजित हुआ था। थाईलैंड के प्रधानमंत्री ने इस युवा को युवा व्यवसायी के अंतराष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया था। इस पुरस्कार के लिए विश्वभर के व्यवसायी व व्यक्तिगत प्रतिभावाशाली लोगों को उनके सराहनीय कार्य के लिए चुना जाता है जिसमें कुल्लू जिला के दलयाड़ा गांव के इस युवक का भी चयन हुआ था। पूरे प्रदेशभर व देशभर के व्यवसायियों में राम शर्मा के चयन को लेकर खुशी का माहौल रहा है। यही नहीं देवता बड़ा छमाहूं की धरती दलयाड़ा गांव में भी जश्र मनाया गया था कि एक छोटे से गांव से निकला युवक जहां चंडीगढ़ में बैठकर लाखों युवाओं को रोजगार मुहैया करवा रहा है वहीं आज उक्त युवक ने इस छोटे से गांव का नाम पूरी दुनिया में रोशन कर दिया है। बंजार उपमंडल के दलयाड़ा गांव में लक्ष्मण शर्मा के घर में जन्में इस युवक में बचपन से ही कुछ नया करने का जज्बा था जो आज अंतराष्ट्रीय स्तर की ख्याती से पूरा किया था। राम अपनी इस कामयाबी के लिए बेहद खुश है। राम शर्मा ने बताया कि जब उन्हें अंतराष्ट्रीय युवा आंट्रेप्रेनुर चुना गया तो उन्हें बेहद खुशी हुई। राम शर्मा आयुर्वेद के द्वारा पूरे भारत में बिमारियों से बचने के उपाय व दवाईयों के बारे में जागरूक करते रहे और अब देश को इलैक्ट्रिक वाहनों की सौगात देने में अग्रसर है। राम शर्मा की माता कृष्णा देवी गृहणी है और पिता कुल्लू कोर्ट में कार्यरत हैं। राम शर्मा ने बताया कि इस कामयाबी के पीछे जहां उनके माता-पिता का हमेशा सहयोग रहा है वहीं गुरूजनों को भी इसका श्रेय जाता है कि उन्होंने मुझे इस काविल बनाया। उन्होंने बताया कि वह छोटे से ब्राह्मण गांव दलयाड़ा में पैदा हुए और देवता बड़ा छमाहूं का उन्हें हमेशा आशीर्वाद रहा है। बड़ा छमांहूं का  पूजारी होने के नाते वे हमेशा देव संस्कृति से भी जुड़े रहे हैं और आज गांव से बाहर रहकर भी अपनी देव संस्कृति व सभ्यता को नहीं भूले हैं। इसलिए महानगरोंं में रहकर भी उन्हें माता-पिता व देव बड़ा छमाहूं का उन्हें पूरा आशीर्वाद रहा है।