चंडीगढ, 18 मार्च। मानवतावादी इंसान बनाना आज की सबसे बड़ी जरूरत है। यह काम धार्मिक, समाजसेवी व अन्य नागरिक संस्थाओं के माध्यम से ही हो सकता है। इसलिए जो काम सरकार के बिना होता है वह असर कारी होता है। वह काम लोगों के दिल को छूता है और उनका हृदय परिवर्तन करता है। ये उद्गार हरियाणा के राज्यपाल प्रो0 कप्तान सिंह सोलंकी ने आज माता अमृतानन्दमयी सत्संग के षुभारम्भ अवसर पर बोलते हुए व्यक्त किए। संत्संग का आयोजन माता अमृतानन्दमयी मठ और मां अमृतानन्दमयी सेवा समिति द्वारा स्थानीय सेक्टर-34 स्थित प्रदर्शनी मैदान में किया गया है।

हरियाणा व पंजाब की संयुक्त राजधानी चण्डीगढ में माता अमृतानन्दमयी का स्वागत करते हुए राज्यपाल ने इस क्षेत्र में उनके द्वारा किए जा रहे कल्याण कार्याें के लिए उनका धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि अम्मा द्वारा पर्यावरण सुधार, जल संरक्षण, जैविक खेती, स्वयं सहायता समूहों को रोजगार, स्वच्छता, वृक्षारोपण आदि के माध्यम से जीवन को बचाने का महान काम किया जा रहा है।
प्रो0 सोलंकी ने आगे कहा कि आज माता अमृतानन्दमयी के दर्शन करना हमारा परम सौभाग्य है क्योंकि आज ही के दिन एक अरब 40 करोड़ साल पहले सृष्टि का जन्म हुआ था। ऐसे पावन दिवस पर अम्मा का सानिध्य व आशीर्वाद मिलना हमारे लिए गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण सृष्टि में मां सबसे बड़ी है। संसार में सब कुछ मिल सकता है, लेकिन मां नहीं मिलती और माता अमृतानन्दमयी तो पूरे संसार की मां हैं। पूरा विश्व ही उनकी कोख है। वे रोटी के भूखों की भूख तो मिटाती ही हैं, जिनके सिर पर किसी ने हाथ नहीं रखा, ऐसे प्रेम, प्यार व वात्सल्य से वंचित मानवों के प्यार की भूख को मिटाकर विश्व में शांति के लिए काम कर रही हैं।
राज्यपाल ने मां अमृतानन्दमयी सेवा समिति की ओर से महिलाओं को रोजगार के लिए कार्यपूंजी और साड़ियां वितरित कीं।
इससे पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने सम्बोधन में कहा कि माता अमृतानन्दमयी द्वारा किए जा रहे कार्याें के लिए हरियाणा सरकार द्वारा हर अपेक्षित सहयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उन्होंने जो संस्थाएं बनाई हैं, वैसी संस्थाओं के बिना जन-कल्याण और पीड़ा हरने का काम होना संभव नहीं है। ऐसी संस्थाएं सरकार से भी अधिक कारगर काम करती है और उनमें से कुछ का बजट तो सरकार से भी ज्यादा होता है। उन्होंने मां अमृतानन्दमयी सेवा समिति की ओर से जल स्वच्छता उपकरण वितरित किए। 
समारोह में पंजाब के वन एवं समाज कल्याण मंत्री साधु सिंह ने भी विचार रखे और पंजाब के मुख्यमंत्री का लिखित संदेश माता अमृतानन्दमयी को सौंपा।
इस अवसर पर हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, विश्व हिन्दू परिषद् के अन्तर्राष्ट्रीय संगठन मंत्री दिनेश कुमार, चण्डीगढ के मेयर देवेश मोदगिल, पंचकुला की मेयर उपेन्द्र कौर, योगदा आश्रम से स्वामी कृष्णानन्द जी, रामकृष्ण मठ से स्वामी सत्येनानन्द जी आदि उपस्थित थे।