कुल्लू - 18 मार्च 2018-उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति कुल्लू की ओर से रविवार को ग्राम पंचायत जलुग्रां में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर की अध्यक्षता करते हुए समिति के अध्यक्ष एवं मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी नरेश ठाकुर ने कहा कि राष्ट्रीय विधिक सेवाएं प्राधिकरण नालसा ने आम लोगों को न्याय उपलब्ध करवाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण योजनाएं चलाई हैं। मुफ्त कानूनी सहायता योजना इन्हीं योजनाओं में से एक है।
  उन्होंने बताया कि एससी-एसटी वर्ग के लोगों, महिलाओं, विकलांगों, बच्चों, किसी भी तरह की आपदा से पीड़ित लोगों और सालाना एक लाख रुपये से कम आय वाले लोगों के लिए नालसा ने मुफ्त कानूनी सहायता का प्रावधान किया है। इसके लिए हर न्यायिक परिसर में फ्रंट आफिस खोले गए हैं तथा मुफ्त कानूनी सहायता प्राप्त करने के लिए आवेदन की प्रक्रिया भी बहुत ही सरल बनाई गई है। पात्र लोगों को इस महत्वपूर्ण योजना का लाभ उठाना चाहिए। शिविर के दौरान मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी ने पौधारोपण पर विशेष जोर देते हुए लोगों से अधिक से अधिक पेड़ लगाने की अपील की।
  इस अवसर पर वरिष्ठ अधिवक्ता धर्मेंद्र शर्मा ने मोटर वाहन अधिनियम, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, मौलिक अधिकारों व कर्तव्यों की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने लोगों को नशे के दुष्प्रभावों से अवगत करवाया। अधिवक्ता नेत्र सिंह ठाकुर ने महिला अधिकार और घरेलू हिंसा रोधी अधिनियम और अधिवक्ता तेज सिंह ठाकुर ने साईबर अपराध और आईटी एक्ट की जानकारी दी। पूर्व प्रधान देवेंद्र शर्मा ने पंचायतीराज और विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं पर प्रकाश डाला, जबकि प्रधान शक्ति देवी ने शिविर के आयोजन के लिए उपमंडलीय विधिक सेवाएं समिति का आभार व्यक्त किया।