चंडीगढ़ 22 अप्रैल- हरियाणा में नीदरलैंड सरकार के सहयोग से एक उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने के लिए एक प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है।
 यह जानकारी आज हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री ओ.पी. धनखड़ की अगुवाई में नीदरलैंड दौरे पर गए हुए प्रतिनिधिमंडल के साथ हॉग में एक बैठक के दौरान दी गई। इस बैठक की अध्यक्षता अंबेसडर श्री वेणु राजा मोनी ने की। जिसमें दूतावास के प्रमुख अधिकारी और नीदरलैंड में जानेमाने हरियाणवी व हरियाणा व्यवसाय कर रहे व करने के इच्छुक डच उद्योगपति भी शमिल थे ।
हरियाणा में विदेशी निवेश को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने नीदरलैंड में बसे हरियाणा के उद्योगपतियों को हरियाणा में उद्योग लगाने का न्योता दिया। उन्होंने कहा कि अपनी जननी और जन्मभूमि को कभी नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने कहा कि आप समर्थ हैं तो अपनी जड़ों से जुडऩा चाहिए और हरियाणा में आकर उद्योग स्थापित करने चाहिएं।
उन्होंने कहा कि हमारे संस्कारों में ये बात शामिल है कि हमें अपने देश, अपनी जड़ों को कभी भुलाना नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि हरियाणा में उद्योग की अपार संभावनाएं हैं, इसलिये उद्योगपतियों को हरियाणा में आना चाहिए। 
कृषि मंत्री अप्रवासी भारतीयों से व्यकिगत तौर पर भी मिले। उन्होंने बताया कि हरियाणा के विभिन्न शहरों पेहवा, गुरुग्राम, मानेसर, सोनीपत, साहा के अनेक अप्रवासी भारतीय नीदरलैंड मे अतिसराहनीय कार्य कर रहे हैं। वे  अपनी जड़ो से जुडक़र कर हरियाणा में काम करना चाहते हैं जो कि प्रसन्नता का विषय है ।
हालैंड निवासी आल रांउड वैजिटेबल प्रोसेसिंग के मालिक हुईब स्मिट भी कार्यक्रम में शामिल हुए, जिन्होंने अंम्बला मे 2008 से अपना प्लांट लगाया हुआ है, उन्होंने हरियाणा में अंपनी कम्पनी के अनुभवों को सांझा किया । दावत ब्रांड, एलटी फ़ूड लिमिटेड कंपनी के डायरेक्टर आदित्य अरोड़ा और फि़निश प्रोफ़ाइल समूह के मालिक हैरी बहल, जिन्होंने मानेसर में प्री फैब स्ट्रक्चर  का प्लांट लगाया हुआ है, ने भी अपने विचार सांझा किये। सी. आर. वी. कम्पनी के निदेशक पैट्रसिया सी. डी बोर्डेस हरियाणा में सैक्सड सीमेन (केवल बछडिया उत्पन्न हो ) का व्यवसाय करना चाहते है। फूलों की खेती लिये प्रसिद्ध नीदरलैंड में हरियाण के प्रतिनिधिमंडल ने ट्यूलिप  के खेतों का दौरा किया व फूलों की खेती की विस्तार से  जानकारी ली ।
कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ के नेतृत्व में विदेश में अध्ययन के लिए गए प्रतिनिधि मंडल का हेग, एमस्टरडम व नीदरलैंड में बसे हरियाणवी, भारतीय व हरियाणवी व्यवसाय कर रहे डच लोगों ने ज़ोरदार स्वागत व सम्मान दिया।