करनाल ,16.07.18: डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ररबन मिशन के तहत असंध विधानसभा क्षेत्र के बल्ला क्लस्टर में लंबे अरसे से अवरुद्ध पड़ी विकास परियोजनाओं पर अब तेज़ी से काम होगा। राज्य सरकार के पंचायत एवं विकास विभाग ने लगभग 109 करोड रुपए की इन परियोजनाओं से जुड़े सभी अवरोध दूर कर इन्हें फ़ास्ट ट्रेक पर लाने की दिशा में क़दम बढ़ा दिए हैं। हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष और ग्रामोदय अभियान के संयोजक प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान ने आज यहां इस आशय की जानकारी दी। ग्राम पंचायतों की ओर से इस संबंध में संपर्क किए जाने के बाद आज प्रोफेसर चौहान ने करनाल के उपायुक्त आदित्य दहिया से मुलाक़ात कर कार्य की प्रगति को लेकर चर्चा एवं पड़ताल की। उपायुक्त डॉक्टर दहिया और अतिरिक्त उपायुक्त निशांत यादव से विमर्श के दौरान सामने आए बिंदुओं पर प्रो वीरेंद्र सिंह चौहान ने चंडीगढ़ में विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान सचिव सुधीर राजपाल से संपर्क कर ताजा स्थिति की समीक्षा की।

यहाँ जारी वक्तव्य में प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि बल्ला क्लस्टर के अंतर्गत आने वाले सालवन, बल्ला, मानपुरा, गोल्ली और फ़फड़ाना गाँवों में विकास कार्यों की विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट पहले ही राज्य सरकार के संबंधित विभाग द्वारा स्वीकृत हो चुकी थी।

राज्य सरकार में विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान सचिव सुधीर राजपाल के हवाले से प्रो चौहान ने कहा कि बल्ला कलस्टर की सभी योजनाओं के संबंध में जो जो वित्तीय स्वीकृतियां लंबित पड़ी थी, उन्हें प्राप्त करने के बाद विकास एवं पंचायत विभाग ने काम को आगे बढ़ाने की हरी झंडी करनाल के जिला प्रशासन को दे दी है।

वीरेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि योजना के तहत कुछ विकास परियोजनाओं पर पहले से कार्य चल रहा है। करीब 30 करोड़ रुपए की प्रतीक्षित राशि इस सप्ताह राज्य सरकार द्वारा इस क्लस्टर हेतु हस्तांतरित कर दी जाएगी। यह राशि जारी होने के बाद विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट में मंजूरशुदा सभी कार्य संबंधित विभागों द्वारा तेज गति से पूरे कराए जा सकेंगे।