हमीरपुर 21 सितम्बर। हिमाचल प्रदेश राज्य जैव विविधता बोर्ड शिमला द्वारा वन विभाग के सौजन्य से वीरवार को हमीर होटल के सभागार में एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें जिला परिषद सदस्यों के अतिरिक्त विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया। कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए जिला परिषद अध्यक्ष राकेश ठाकुर ने जैव विविधता बोर्ड तथा वन विभाग के अधिकारियों का इस प्रशिक्षण कार्यशाला के आयोजन के लिए धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि जैव विविधता बोर्ड को जिला में ग्राीमण स्तर पर ऐसे ही एक बड़े जागरूकता शिविर का आयोजन करना चाहिए ताकि प्रत्येक व्यक्ति की जैव विविधता के संरक्षण व संबद्र्धन में सक्रिय भागीदारी को सुनिश्चित बनाया जा सके। उन्होंने बताया कि हर वर्ष आगजनी की घटनाओं से करोड़ों रूपए की वन सत्पदा जल कर राख हो जाती है , पशु- पक्षियों की प्रजातियां लुप्त होती जा रही हैें तथा पर्यावरण को नुक्सान पहुंच रहा है इसलिए प्राकृतिक सम्पदा से सम्पन्न प्रदेश के वनों के संरक्षण तथा संबद्र्धन के लिए सभी को अपने-2 स्तर पर प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि जैव विविधता बोर्ड पन्द्रहवे वित्तायोग में जैव विविधता के लिए पंचायतों में धन का प्रावधान करवाए ताकि स्थानीय स्तर पर युवाओं को इसका लाभ प्राप्त हो सके। उन्होंने कहा कि जैव विविधता जीवन का स्वरूप तय करती है इसलिए इसका ग्रामीण स्तर तक सघन प्रचार-प्रसार होना चाहिए।
जैव विविधता बोर्ड के संयोजक एमएल ठाकुर ने जैव विविधता अधिनियम 2002 के अंतर्गगत विभिन्न पहलुओं की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस शिविर का मुख्य उददेश्य जैव विविधता संसाधनों के संरक्षण तथा संबद्र्धन को लेकर लोगों की सहभागिता को सुनिश्चित करना है ताकि लोगों को इसके सही महत्व व मूल्य की जजानकारी हासिल हो सके। उन्होंने बताया कि इसके लिए जिला स्तर पर जैव विविधता प्रबंधन समितियों का गठन किया जाएगा तथा इसके बाद पंचायत स्तर पर ऐसी ही समितियों का गठन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि समितियों का गठन होने के पश्चात इसके लिए आरम्भिक स्तर पर धन का भी प्रावधान किया जाएगा।
इस दौरान जिला परिषद उपाध्यक्ष चंदू लाल चौधरी, वन अरण्यपाल अनिल जोशी, एएसपी बलवीर ठाकुर, वन मंडलाधिकारी प्रीति भंडारी ने भी जैव विविधता को सामाजिक आर्थिक जीवन का आधार बताया तथा इसके संरक्षण के लिए बनाए गए अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों की जानकारी प्रदान के लिए जैव विविधता बोर्ड के अधिकारियों का धन्यवाद किया। डा0 पंकज शर्मा तथा डा0 दुष्यंत शर्मा ने भी जैव विविधता को लेकर महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाई।
इस अवसर पर एसडीएम शिल्पी बेक्टा, वन निगम की डीएम संगीता चंदेल, डीएफओ ऌ(वाईल्ड लाईफ) कृष्ण कुमार, डीपीओ रमेश कपूर के अतिरिक्त विभिन्न विभागों के अधिकारी भी उपस्थित थे।