रोह्तक,10.10.18- कल सांपला में हुई प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की रैली को नवीन जयहिंद ने सरकारी कर्मचारियों व सादे कपड़े में पुलिस कर्मचारियों की रैली बता प्रेस वार्ता में कहा कि मोदी जी से प्रदेश की जनता व किसानो की इस रैली में प्रधानमन्त्री के आगमन पर बहुत आशाए थी लेकिन प्रधान सेवक ने उनकी उम्मीदों को पूरी तरह धूमिल कर दिया | वे प्रदेश में आये तो लेकिन अपने साथ जातिवाद का जहर भी साथ लाये | उनके ऑफिस द्वारा किये ट्वीट जिसमे सर छोटूराम को“जाटों का मसीहा”कहा गया ने ये साबित भी किया कि हरियाणा में फैलाये जातिवाद के जहर के मास्टरमाइंड खुद प्रधानमन्त्री है | हरियाणा को नॉन –जाट व जाट में बांटने का काम प्रधानमन्त्री के ऑफिस से चल रहा है व प्रधानमन्त्री की मिलीभगत से है |

जयहिंद ने मुख्यमंत्री से स्पष्टीकरण मांगते हुए पूछा कि मुख्यमंत्री बताये कि आखिर ये ट्वीट किसने किया , किसके कहने पर किया और बाद में ट्वीट को डिलीट क्यों कर दिया गया ? जयहिंद ने कहा कि आप का प्रत्येक कार्यकर्ता भाजपा की साजिश को बेनकाब करेगा | मुख्यमंत्री प्प्रदेश की जनता से छोटूराम को जातिवाद के बंधन में बांधने पर माफ़ी मांगे |

जयहिंद ने कहा कि मोदी जी अपने भाषण में किसानों के लिए जिन योजनाओं का जिक्र किया वे सिर्फ किसानों को लुटने के लिए बनाई गई है | फसल बिमा के नाम किसानों के खाते से हजारों करोड़ रूपये किसान से बिना पूछे काट लिए जाते है क्या उसी तरह उसकी फसल बर्बाद होने पर गिरदावरी होगी ?? क्या उसे मुआवजा मिलेगा | किसान से ब्लेंक चेक लेलिया जाता है जो किसी कानून या नियम में नही है | किसान कर्ज के बोझ से आत्महत्या करने को मजबूर हो रहा है |

पीएमओ के ट्वीट पर प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने ट्विटर पर एतराज भी जताया और बाद में नवीन जयहिंद को मिले सोशल मिडिया पर जनता के सपोर्ट व दबाव के चलते डिलीट कर दिया गया |लेकिन ये भी बहुत बड़ी बात है कि पीएमओ के ऑफिसियल हैंडल से कोई ट्वीट डिलिट किया गया है |