चण्डीगढ, 15 अक्तूबर- हरियाणा में दीन दयाल उपाध्याय-ग्रामीण कौशल योजना के स्टेट एक्शन प्लान (राज्य कार्य योजना) के तहत में लगभग 10850 युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके अलावा, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन को वर्ष 2018-19 में प्रदेश के 32 ओर खण्डों में क्रियान्वित किया जायेगा। अब राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन प्रदेश के 100 खण्डों को कवर करेगा।
यह जानकारी यहां हरियाणा के मुख्य सचिव श्री डी.एस.ढेसी की अध्यक्षता में हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की कार्यकारी कमेटी की छठी बैठक में दी गई।
बैठक में बताया गया कि प्रदेश में मिशन द्वारा युवाओं के कौशल प्रशिक्षण व प्लेसमेंट के लिए दीन दयाल उपाध्याय-ग्रामीण कौशल योजना चलाई जा रही है। मिशन की इस योजना के अंतर्गत गरीब ग्रामीण युवाओं को नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है। बैठक में बताया गया कि दीन दयाल उपाध्याय-ग्रामीण कौशल योजना के राज्य कार्य योजना के तहत 10 परियोजनाएं चलाई जा रही हैं जिसके तहत लगभग 10850 युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए 14 प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किये जायेंगे तथा मई,2018 तक इस योजना के तहत 1535 युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है।
बैठक में बताया गया कि प्रदेश में दीन दयाल उपाध्याय-ग्रामीण कौशल योजना के वार्षिक कार्य योजना के लिए केन्द्र सरकार द्वारा तीन वर्षो में लगभग 32,687 युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है तथा हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा अबतक लगभग 26,117 युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है, जिनमें से 11,153 युवाओं को रोजगार प्राप्त हो चुका है।
बैठक में बताया गया कि वर्ष 2018-19 में राष्टï्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन गतिविधियां नूंह जिले के सभी खंडों, सभी सांसद आर्दश ग्राम योजना-ग्राम पंचायतों में चलाई जायेंगी, जिससे राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन को 32 और खण्डों में क्रियान्वित किया जायेगा। अब राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन प्रदेश के 100 खण्डों को कवर करेगा। बैठक में बताया गया कि वर्ष 2018-19 के दौरान प्रदेश में 15000 स्वयं सहायता समूह बनाने, 800 ग्राम संगठन तथा 6000 स्वयं सहायता समूह को क्रेडिट से लिंक करने का लक्ष्य रखा गया है।
बैठक में बताया गया कि राष्टï्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतगर्त वर्ष 2018-19 में भिवानी का बहल तथा लौहारू ब्लाक, झज्जर के बादली, कैथल के ढाण्ड, मेवात के पुन्हाना तथा फिरोजपुर झिरका, हिसार के बरवाला, फतेहाबाद के भट्टू, रतिया एवं नागपुर, करनाल के कुंजपुरा, मुनक निसिंग तथा असंध तथा नीलोखेड़ी, रोहतक का महम ब्लॉक शामिल किया गया है। इसी प्रकार, अंबाला का नारायणगढ़, यमुनानगर का छछरौली तथा बिलासपुर, रेवाड़ी का बावल, पलवल का होडल तथा पृथला, कुरूक्षेत्र का लाडवा तथा पिपली, महेन्द्रगढ़ का अटेली नांगल तथा नांगल चौधरी, सोनीपत का राई, पानीपत के समालखा, सनौली खुर्द तथा बपौली, गुरूग्राम के सोहना तथा चरखी दादरी के बूंद एवं जुझू खण्ड को शामिल किया गया है।