अनुसूचित जाति/ जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत जिला स्तरीय सतर्कता एवं प्रबोधन समिति की बैठक आयोजित
अधिकारी विचाराधीन मामलों पर शीघ्र कार्यवाही करना बनाएं सुनिश्चित ं:- डा0 ऋचा वर्मा
हमीरपुर 23 अकतूबर । अनुसूचित जाति/ जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत जिला स्तरीय सतर्कता एवं प्रबोधन समिति की बैठक उपायुक्त डा0 ऋचा वर्मा की अध्यक्षता में उनके चैंबर में आयोजित की गई जिसमें अधिनियम के अंतर्गत जिला से सम्बंधित उच्च न्यायालय, न्यायालय में विचाराधीन तथा पुलिस अन्वेषणाधीन 44 मामलों पर विस्तार से चर्चा की गई। उन्होंने सम्बंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह विचाराधीन मामलों में शीघ्र कार्यवाही करवाना सुनिश्चित करें ताकि पीडि़त को समय पर न्याय मिल सके। उन्होंने विभिन्न स्तरों पर विचारीधीन मामलों को शीघ्र निपटाने के लिए उपमंडल स्तर पर भी सतर्कता एवं प्रबोधन समितियों का गठन किया जाएगा। इसके साथ उपायुक्त की अध्यक्षता में राष्ट्रीय न्यास के अंतर्गत स्थानीय स्तरीय समिति तथा प्रधानमंत्री के नए 15-सूत्रीय कार्यक्रम के अंतर्गत जिला स्तरीय समिति की बैठक भी आयोजित की गई जिसमें समिति के सरकारी तथा गैर सरकारी सदस्यों ने भाग लिया। बैठक में मौजूदा तथा नई योजनाओं के माध्यम से आर्थिक गतिविधियों तथा रोजगार में अल्पसंख्यकों के लिए समान हिससेदारी, शिक्षा के अवसरों को बढ़ावा देना, आधारभूत ढांचा विकास योजनाओं में उपयुक्त हिस्सेदारी एवं रहन-सहन के स्तर में सुधार लाने,स्वरोजगार के लिए त्र्ऋण सहायता में वृद्धि करने तथा सांप्रदायिकता एवं हिंसा पर नियंत्रण एवं रोकथाम पर विचार -विमर्श किया गया। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी को एकीकृत बाल विकास सेवाओं की समुचित उपलब्धता तथा उप निदेशक शिक्षा उच्चतर तथा प्रारम्भिक को विद्यालयी शिक्षा की उपलब्धता को सुधारने, उर्दू शिक्षण के लिए अधिक संसाधन, मदरसा शिक्षा का आधुनिकीकरण, अल्पसंख्यक समुदायों के मेधावी विद्याथियों के लिए छात्रवृति तथा मोलाना आजाद शिक्षा प्रतिष्ठान के माध्यम से शैक्षिक अवसंरचना को उन्नत करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार उपायुक्त ने पुलिस अधीक्षक को सांप्रदायिक दंगों के पीडि़तों का पुनर्वास करने, सांप्रदायिक घटनाओं की रोकथाम करने, उप निदेशक ग्रामीण विकास अभिकरण को अल्पसंख्यकों के लिए ग्रामीण आवास योजनाओं में उचित हिस्सेदारी प्रदान करने तथा कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद को अल्पसंख्यक समुदायों वाली मलिन बस्तियों की स्थिति स्थिति को सुधारने के लिए निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय न्यास के अंतर्गत सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधीन मानसिक रूप से दिव्यांगजनों तथा अन्य बीमारियों से ग्रसत व्यक्तियों को विधिक संरक्षण सुविधा प्रदान की जाती है तथा इस योजना के तहत अब तक 106 मामलों में विधिक संरक्षण प्रमाण पत्र जारी किए गए हैं। बैठक में काननूी संरक्षण की नियुक्ति के लिए जिला के विभिनन स्थानों के 8 नए मामलों का अनुमोदन किया गया। बैइक में यूनिक डिसेबिलिटी आईडैंटिटी कार्ड के तहत बनने वाले कार्डों के बारे में भी विस्तार से चर्चा की गई तथा उपायुक्त ने मैडीकल कालेज हमीरपुर के अधिकारियों को इस कार्य में तेजी लाने तथा उपरोक्त कार्यक्रम की प्रगति रिपोर्ट प्रदेश सरकार को शीघ्र भेजनेे के निर्देश दिए।
===========================
नादौन के रैल में चार नवंबर को आयोजित होगा जनमंच कार्यक्रम : डीसी
13 पंचायतें की चयनित, सचिवों के माध्यम से अपलोड करवाएं शिकायतें
हमीरपुर 23 अक्तूबर। हमीरपुर जिला के नादौन उपमंडल के रैल के सीनियर सेकंडरी स्कूल के खेल मैदान में चार नवंबर को जनमंच कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। जनमंच के लिए रैल, जोल सपड़, रंगस, फस्टे, कंडरोला, प्लासी, बड़ा चौडू, सपड़ोह, बलडूहक, दंगड़ी, नौहंगी, भूंपल की पंचायतें चयनित की गई हैं। यह जानकारी उपायुक्त डा ऋचा वर्मा ने देते हुए बताया कि जनमंच कार्यक्रम से पहले चयनित पंचायतों में अपने अपने विभागों से संबंधित कार्यक्रमों तथा योजनाओं को लेकर जागरूकता शिविर भी आयोजित करें।
उन्होंने कहा कि सभी विभागीय अधिकारियों को प्री जनमंच के दौरान आयोजित कार्यक्रमों एवं निरीक्षण कार्यों की रिपोर्ट भी प्रतिदिन भेजना सुनिश्चित करना होग।
उन्होंने अधिकारियों को कहा कि वह लोगों द्वारा दी गई शिकायतों के बारे में उन्हें पूर्ण रूप से जानकारी दें तथा जो शिकायत उनके विभाग से सम्बंध्ेिात न हो उसे दूसरे विभाग को तुरंत स्थानांतरित करें ताकि समय पर समस्या का समाधान हो सके।
उन्होंने विकास खंड अधिकारी नादौन को निर्देश दिए कि वह जनमंच कार्यक्रम के लिए प्राप्त जन शिकायत को सम्बंधित पंचायतों के सचिवों से पोर्टल पर अपलोड करवाना सुनिश्चित करें ।
उन्होंने विकास खंड अधिकारी को ये भी निर्देश दिए कि वह स्वयं पोर्टल को खोलकर जन शिकायतों की मॉनीटरिंग सुनिश्चित करें। उन्होंने उद्योग विभाग के अधिकारियों को मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना तथा अन्य विभागीय योजनाओं से सम्बंधित जागरूकता शिविर लगाने को भी कहा ताकि अधिक से अधिक बेरोजगार युवाओं तथा लोगों को स्वरोजगार के अवसर मिल सकें।
इस बाबत परियोजना अधिकारी डीआरडीए डा सुनील चंदेल ने रैल में प्रस्तावति जनमंच कार्यक्रम को लेकर स्थानीय अधिकारियों के साथ एक आवश्यक बैठक भी आयोजित की गई।
==================================
कोटपा के अंतर्गत जिला समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक आयोजित
हमीरपुर 23 अकतूबर। कोटपा के अंतर्गत जिला समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक अतिरिक्त उपायुक्त रत्न गौतम की अध्यक्षता में आयोजित की गई जिसमें सिगरेट व अन्य तंबाकू उत्पादों के उत्पादन, आपूर्ति एवं व्यापार निषेध आदि विभिन्न प्रावधानों के क्रियान्वयन पर चर्चा की गई।
बैठक में उपायुक्त की अध्यक्षता में नई जिला स्तरीय समन्वय एवं निगरानी समिति गठित करने का निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश को 2013 में धुआंमुक्त घोषित किया गया है तथा अधिनियम द्वारा सभी सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान निषेध है। सिगरेट सहित सभी तंबाकू उत्पादों का विज्ञापन भी प्रतिबंधित है। कोटपा के अंतर्गत खुली सिगरेट बेचने पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। 18 वर्ष से कम आयु के व्यक्ति और शिक्षा संस्थानों से 100 मीटर की दूरी तक तंबाकू उत्पादों की विक्री पर पूर्णतया रोक है। उन्होंने कहा कि अधिनियम के इन प्रावधानों को लागू करने के लिए सभी विभाग संयुक्त रूप से उडन दस्ता गठित कर छापामारी करें व दोषियों को जुर्माना लगाकर दंडित करें।
उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी व ग्राम पंचायतों में पंचायत सचिव को अपने-2 क्षेत्रों में तंबाकू विक्रेताओं का पंजीकरण करने के लिए अधिकृत किया गया है। उन्होंने कहा कि सभी विभाग अपने कार्यालयों में धूम्रपान निषेध क्षेत्र के साईनेज बोर्ड्र लगाना सुनिश्चित करें।
इस अवसर पर डीएसपी जसबीर सिंह, बीएमओ डा0 अशोक कौशल, डा0 एसआर गौतम, डा0 संजय उपनिदेशक (प्रारम्भिक ) देश राज, एडीपीईओ राजेन्द्र शर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी टीआर आचार्य सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी भी उपस्थित थे।
========================
सकारात्मक सोच तथा आत्मविश्वास से किसी भी लक्ष्य को किया जा सकता हासिल:- नरेन्द्र ठाकुर
हमीरपुर 23 अक्तूबर। वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह किसी भी स्कूल के लिए एक अहम दिन होता हे जिसमें बच्चों द्वारा बर्ष भर शैक्षणिक, सांस्कृतिक तथा अन्य गतिविधियों में किए गए उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया जाता है। ये उदगार स्थानीय विधायक नरेन्द्र ठाकुर ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक कन्या आदर्श पाठशाला हमीरपुर के वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह के अवसर पर बतौर मुख्यातिथि शिरकत करने के बाद अपने संबोधन में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार शिक्षा के प्रति अति संवेदनशील है तथा बच्चों को गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने के उददेश्य से जिला के 271 स्कूलों में नर्सरी की कखाएं शुरू की जा रही हैं। बच्चों को घर द्वार के नजदीक गुणात्मक शिक्षा प्रदान करने के उददेश् से प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक-एक आदर्श विधालय खोला जा रहा है तथा आने वाले समय में खंड तथा पंचायत स्तर पर भी ऐसे विधालय खोले जजाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा इस स्कूल में पुस्तकालय भवन के लिए 1 करोड़ 40 लाख रूपए की राशि स्वीकृत की गई है तथा इसका शीघ्र निर्माण कर जनता को समर्पित किया जाएगा जिससे बच्चों को पुस्तकालय में और अधिक बेहतर सुविधाएं उपलब्ध होंगी।
उन्होंने बच्चों का आहवान किया कि वह सकारात्मक सोच रखें तथा आत्मविश्वास को बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि इन दोनों चीजों के होने से बच्चों को अपनी मंजिल को हासिल करने में दुनिया की कोइ्र भी ताकत नहीं रोक सकती है। उन्होंने अध्यापकों तथा अभिभावकों का भी आहवान किया कि वह बच्चों को अच्छी शिक्षा तथा संस्कार प्रदान करें और महान विभूतियों के चारित्रिक गुणों से अवगत करवाएं ताकि वह उनसे प्रेरणा लेकर जीवन में विकास की बुलंदियों को हासिल कर सकें। उन्होंने चिंता व्यकत की कि आज प्रदेश में 25 प्रतिशतत युवा नशे की गिरफत में है इसलिए प्रतयेक माता-पिता का परम कर्तव्य होना चाहिए कि वह अपने बच्चों की दैनिक गतिविधियों पर कड़ी नजर रखें तथा सामाजिक बुराईयों से दूर रहने के लिए निरंतर मार्गदर्शन करें। उन्होंने शिक्षा तथा अन्य गतिविधियों में उत्कृष्ट रहने वाले बच्चों को बधाई दी तथा अन्य बच्चों को इनसे प्रेरणा लेकर जीवन में आगे बढऩे के लिए कड़ी मेहनत करने का आहवान किया।
इस अवसर पर स्कूली बच्चों द्वारा एक से बढ़कर एक रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर जहां लोगों का मनोरंजन किया वहीं देश की एकता अखंडता को बनाए रखने, सामाजिक बुराईयों का समाप्त करने, बेटियों के प्रति सकारातमक सोच पैदा करने का भी संदेश दिया। मुख्यातिथि ने शिक्षा के साथ-2 खेलकूद, सांस्कृतिक तथा अन्य गतिविधियों में उत्कृष्ट रहने वाली छात्राओं को स्मृति चिन्ह भेट कर सम्मानित किया।उन्होंने शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने के लिए स्कूली छात्राओं की मुक्त कंठ से सराहना की तथा सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए उन्हें अपनी एैच्छिक निधी से 11 हजार रूपए देने की भी घोषणा की।
इस अवसर पर उप निदेशक उच्च शिक्षा सोमदत्त सांख्यान ने छात्राओं का आहवान किया कि वह शिक्षा के साथ अन्य सभी प्रकार की स्कूली गतिविधियों में बढ़-चढ़ कर भाग लें। उन्होंने कहा कि इससे बच्चों में आत्म विश्वास बढ़ता है तथा स्वयं को अवलोकन करने का भी अवसर प्राप्त होता है।
इससे पहले स्कूल प्रधानाचार्य नीना ठाकुर ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा स्कूल की वार्षिक रिपोर्ट पढ़ी। उन्होंने कहा कि स्कूल के कर्मठ प्राध्यापकों की कड़ी मेहनत के फलस्वरूप बच्चे पढ़ाई के साथ खेलकूद, सांस्कृतिक तथा अन्य गतिविधियों में भी बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं।
इस अवसर पर एपीएमसी के अध्यक्ष अजय शर्मा, हमीरपुर भाजपा मंडल महासचिव राजेश गौतम, हरीश शर्मा, शहरी ईकाई के अध्यक्ष संजीव भारद्वाज, ब्लॉक महिला अध्यक्ष सुमन कपिल, जिला परिषद सदस्य वीना कपिल, नगर परिषद अध्यक्ष सुलोचना देवी, पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष प्यारे लाल शर्मा,एसएमसी प्रधान दीपक राज, राजेन्द्र शर्मा, कमलेश, चंदशेखर, वाईस प्रींसिपल किरण शर्मा,नगर पार्षद बिधी चंद शर्मा, राजेश चौधरी, समाजसेवी कमलेश, भूमिगत शर्मा, मनोहर ठाकुर, करतार ठाकुरदिनेश पटियाल, जगवीर सिंह के अतिरिकत अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे।