Chandigarh,16.11.18 (AJAY) अधिकांश भारतीय चुड़ैलों के बारे में लोककथाएं सुनकर बड़े हुए हैं। पीढ़ियों से हमने उनके बारे में सुन रखा है कि वेदुष्ट होती हैं और बड़ी चालाकी से तंत्र-मंत्र करती हैं। क्या परी कथाओं की यह खलनायिका सिर्फ हमारे दिल में पलरहा एक डर है? या फिर वे वाकई भारत के दूरदराज के किसी अंधेरे कोने में रहती हैं। हम कभी उनके अस्तित्व कीसच्चाई नहीं जान पाएंगे, लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है यदि कोई चुड़ैल को प्यार हो जाए तो किस तरह कानाटकीय बदलाव आएगा? ज़ी टीवी का अगला प्राइमटाइम शो ‘मनमोहिनी‘ प्यार, बदले की भावनाओं, इच्छाओं, जुनून और ऐसी ही उन तमाम बातों की कहानी है, जो इन सभी चीजों के बीच आती हैं। एलएसडी फिल्म्स के निर्माणमें बना मनमोहिनी 27 नवंबर 2018 से शुरू हो रहा है, जिसका प्रसारण हर सोमवार से शुक्रवार शाम 7ः30 बजे ज़ीटीवी पर किया जाएगा।

राजस्थान की पृष्ठभूमि में रची-बसी इस कहानी को रेगिस्तान की मिट्टी का एक-एक कण बयां करता है। यह‘मनमोहिनी‘ नाम की एक डायन की कहानी है। वो एक अतृप्त आत्मा है, जो अपने प्रेमी राम (अंकित सिवक) सेमिलने के लिए 500 वर्षों से भटक रही है। अब वो अतीत के पन्नों से निकलकर राम और उसकी पत्नी सिया (गरिमासिंह राठौर) की जिंदगी में लौट आई है। यह शो राम के प्रति सिया के अटूट प्यार को दर्शाता है, जिसमें वो मोहिनीनाम की शैतानी आत्मा से अपने पति को बचाने के लिए संघर्ष करती है। इस शो में मोहिनी का मुख्य किरदार निभारहीं रेहना पंडित इस शो को प्रमोट करने आज चंडीगढ़ पहुंची।

अपनी चंडीगढ़ यात्रा को लेकर खूबसूरत रेहना कहती हैं, ‘‘आमतौर पर चुड़ैलों को डरावना और खौफनाक मानाजाता है और उनका हुलिया आपकी आंखों को जरा भी नहीं भाता, लेकिन मोहिनी इससे अलग है। वो खूबसूरत है, ताकतवर है और सच्चे प्यार को पाने का उसका जुनून, सभी को उसकी अंधेरी दुनिया की ओर आकर्षित करता है।इन सभी बातों के चलते इस किरदार मंे मेरी दिलचस्पी बढ़ गई। मैं टेलीविजन स्क्रीन पर चुड़ैल और उसकेमायाजाल को एक अलग रूप में पेश करने को लेकर बेहद उत्साहित हूं। मुझे आज चंडीगढ़ आकर बेहद खुशीमहसूस हो रही है। मैं पहले भी यहां आई हूं और हर बार यहां मुझे बढ़िया अनुभव हुआ है। यहां के लोग और यहां कीसंस्कृति बेहद आकर्षक हैं। मुझे इस शहर में आकर अच्छा वक्त गुजारने का इंतजार है।‘‘

मोहिनी के पास ‘भूरा जादू‘ करने की शक्ति है। 500 वर्ष पहले वो राजस्थान के घुमक्कड़ आदिवासियों के घागरापलटन समूह का हिस्सा थी, जिनका प्रमुख पेशा अमीर और ताकतवर लोगों के लिए नाच-गाने करना होता था। राम केप्रति उसके जुनून के चलते उसका राम की पत्नी सिया के साथ टकराव होता है। इस तरह दो महिलाओं के बीच एकयुद्ध की शुरुआत होती है, जिनमें से एक आधुनिक दौर की इंसान है और दूसरी एक अमर शैतानी आत्मा। दोनों हीअपने प्यार को वापस पाना चाहती हैं।

अच्छाई और बुराई की इस लड़ाई में आखिर जीत किसकी होगी? जानने के लिए देखिए ‘मनमोहिनी‘ शुरू हो रहा है27 नवंबर से, हर सोमवार से शुक्रवार, शाम 7ः30 बजे सिर्फ ज़ी टीवी पर