जीन्द ( 16 जनवरी 2019 ) :- नेहरू पार्क जीन्द में कि नवचयनित जे.बी.टी ने मिटिंग संघ के प्रदेश अध्यक्ष संजय तालु ने बताया कि यदि सरकार ने 18 जनवरी 2019 को माननीय उच्च न्यायालय में कोई सकारात्मक कदम नहीं उठाया तो होगा बड़ा आंदोलन जिसकी जिम्मेवारी सरकार की होगी । 2012 में विज्ञाप्ति जे.बी.टी की भर्ती में 12731 नवचयनित जे.बी.टी अध्यापकों में से बचे लगभग 900 नवचयनित जे.बहुत. टी अध्यापकों को बार-बार माननीय मुख्यमन्त्री श्री मनोहर लाल जी , माननीय शिक्षामन्त्री श्री रामबिलास शर्मा जी , मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर जी , मुख्यमन्त्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल वत्स जी से , माननीय मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव श्री दीपक मंगला जी , माननीय राज्यमंत्री एवं अध्यक्ष वक्फबोर्ड श्री रहीश खानं जी , भाजपा सरकार के मुख्य सचेतक एवं विधायक पंचकुला श्री ज्ञानचंद गुप्ता जी , माननीय अतिरिक्त मुख्य सचिव शिक्षा विभाग , निदेशक शिक्षा विभाग से पिछले 1 वर्ष से आश्वासन तो मिलता है परन्तु उस पर कोई अमल नहीं हो रहा है। आज संघ की बैठक में फैसला लिया गया कि इस बारें में तुरन्त मुख्यमन्त्री महोदय से मिलकर उनके वादे को याद दिलवाया जाऐगा। ताकि इन बेरोजगारों को भी रोजगार मिल सके। ज्ञात रहे कि मुख्यमन्त्री ने ( 28 मार्च 2018 को , फिर 5 मई 2018 को , फिर 27 सितंबर 2018 को मुख्यमंत्री निवास चंड़ीगढ़ में तथा 16 अक्तूबर 2018 को भिवानी में मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने दीपावली से पहले ज्वाईनिंग के लिए कहां था व माननीय शिक्षामंत्री श्री रामबिलास शर्मा जी ने 10 मई 2018 को व अधिकारियों ने भी मीडिया की मौजूदगी में 15 दिन में ज्वाईनिंग करवाने के लिए बोला था । परन्तु आज तक भी नवचयनित जे.बी.टी कि ज्वाईनिंग नहीं हो सकी हैं । जबकि शिष्टमण्डल लगातार उनके द्वारा दिए गए आदेशों को लेकर उच्च अधिकारियों एवं मुख्यमन्त्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल वत्स से मिल रहें हैं। पात्र अध्यापक संघ 2011 एवं (2012-13) के प्रधान संजय तालू ने बताया कि पिछले दिनों इन नियुक्ति से वंचित अध्यापकों ने 18 अक्टूबर से धरना व अनश्न शुरू किया था। जिसे मुख्यमन्त्री के राजनीतिक सचिव श्री दीपक मंगला जी ने 23 अक्टूबर को मुख्यमन्त्री के इस आश्वासन पर अनश्न समाप्त करवाया था कि 4 नवम्बर तक आपकी नियुक्ति करवाकर खुशखबरी दी जाएगी। परन्तु आज तक इस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई।
प्रधान तालू ने बताया कि जिसके बाद भाजपा सरकार के सचेतक एवं विधायक पंचकुला श्री ज्ञानचंद गुप्ता जी ने भी दीपावली के पर्व भी मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के रूप में आश्वासन दिया था कि मुख्यमंत्री जी ने जल्द ज्वाईनिंग के लिए कहां हैं ।
तालू ने बताया कि कोर्ट के आदेश व मुख्यमन्त्री द्वारा 12731 नवचयनित जे.बी.टी को नियुक्ति देने के आदेश हुए थे। जिनमें से ज्वाईनिंग से वंचित शेष बचे 900 उम्मीद्वार 20 महिने बाद भी दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर किया जा रहा हैैं।
प्रदेशाध्यक्ष संजय तालू ने बताया कि शिक्षा विभाग के अडियल रवैये के कारण ज्वाईनिंग नहीं हो पाई हैं जबकि रैस्ट ऑफ हरियाणा में लगभग 4000 जे.बी.टी के पद प्रमोशन व रिटायरमेंट से रिक्त हैं व जे.बी.टी के 1320 पद मेवात जिले में आज भी रिक्त हैं।
प्रदेशाध्यक्ष तालू ने बताया कि जब मेवात जिले में सीटें खाली हैं और मुख्यमन्त्री की ओर से भी वहां नियुक्ति का आश्वासन दिया जा चुका है तो नवचयनित को वहां नियुक्ति क्यों नहीं दी जा सकती ।
केन्द्र सराकर द्वारा मेवात जिले को पहले ही एस्पायरेशलन (अध्यापकों की कमी वाला जिला) घोषित किया जा चुका है और वहां पर अध्यापकों की आज भी कमी है। वर्तमान में लगभग 1320 सीट वहां पर रिक्त हैं तो शेष बचे चयनित उम्मीदवारों को वहां क्यों नहीं ज्वाईनिंग करवाया जा रहा। जबकि 10 फरवरी 2018 को विभाग द्वारा रैस्ट ऑफ हरियाणा से बिना कैडर बदले सीधे तौर पर लगभग 500 उम्मीदवारों को ज्वाईनिंग दी जा चुकी हैं ।
प्रदेशाध्यक्ष संजय तालू ने बताया कि. माननीय महाअधिवक्ता हरियाणा सरकार व प्रधान सचिव शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार ने 20 अप्रैल 2015 को माननीय उच्च न्यायालय में एफिडेविट देकर सभी 12731 जे.बी.टी को ज्वाईनिंग देने के लिए कहां था ।जिसके बाद उच्च न्यायालय ने ज्वाईनिंग देने के आदेश पारित किएं थे । उसके बाद 8 जनवरी 2016 को माननीय उच्च न्यायालय में निदेशक मौलिक शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार ने ऐफिडेविट देकर माननीय उच्च न्यायालय में कहां था कि हमारे पास 16254 जे.बी.टी अध्यापकों की कमी हैं । जिसके बाद भर्ती में कुल 12731 उम्मीद्वारों को नियुक्ति दिए जाने के आदेश माननीय उच्च न्यायालय ने आदेश दिए थे । परन्तु आज 20 महिने बाद भी नवचयनित जे.बी.टी सड़कों पर धक्के खाने को मजबूर हैं। संजय तालू ने कहा कि सराकर द्वारा अब तक लगभग 8700 जे.बी.टी अध्यापकों को रेगुलर व लगभग 1800 जे.बी.टी अध्यापकों को एडहॉक बेसिस पर ही ज्वाईनिंग किया हैं।
माननीय मुख्यमन्त्री व शिक्षा मंत्री महोदय द्वारा भी भर्ती में शेष बचे उम्मीद्वारों को बार-बार नियुक्ति का आश्वासन दिया गया है। न्यायालय ने भी बचें हुए जे.बी.टी उम्मीदवारों को भी सही ठहराते हुए उन्हें गैस्टों टीचर से पहले ज्वाईनिंग कराए जाने के आदेश दिए हैं। मगर इसके बावजूद भी प्रदेश सरकार जे.बी.टी उम्मीद्वारों को ज्वाईनिंग नहीं दे रहीं है। लेकिन मेवात कैडर में खुद सरकार ने बचें हुए जे.बी.टी उम्मीद्वारों को ज्वाईनिंग दिएं जाने की बात कहीं थी।
संजय तालु ।
9812683188