धर्मशाला 19 जनवरी - हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी द्वारा साहित्यकार कलाकार प्रलेखन योजना के अंतर्गत पारंपरिक लोक कलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए ललित कला अकादमी दिल्ली के सहयोग से श्रीराम आर्ट गैलरी डुघियारी, कांगड़ा में पहाडी चित्रकला प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया है। 18 जनवरी से शुरू हुई इस तीन दिवसीय कार्यशाला में प्रख्यात कलाकार धनीराम तथा मुकेष धीमान द्वारा पहाड़ी चित्रकला का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।
कार्यशाला के प्रभारी देवराज शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि इस शिविर में कागज बनाने की विधि, रंग बनाना, रेखांकन तथा चित्रों में रंग भरने की विधि सिखाई जा रही है तथा चित्रांकन प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी की जा रही है। उन्होंने बताया कि चित्रकला पर एक डाक्यूमेंटरी का निर्माण भी किया जा रहा है।
इसके अतिरिक्त हिमाचल अकादमी द्वारा साहित्यकार-कलाकार संवाद तथा फिल्मांकन योजना के अन्तर्गत हिमाचल प्रदेश के प्रख्यात लेखक, कवि, समीक्षक तथा लोक साहित्य के मर्मज्ञ विद्वान डा0 गौतम व्यथित शर्मा के जीवन तथा कृतित्व पर आधारित फिल्मांकन किया गया। इस अवसर पर साहित्यकार कमल हमीरपुरी, पवनेन्द्र पवन, डा0 मीनाक्षी दत्ता, तथा डा0 ओम प्रकाश शर्मा ने भी डा0 गौतम व्यथित शर्मा केे लेखन तथा साहित्य के योगदान पर प्रकाश डाला।
सचिव अकादमी डा0 कर्म सिहं ने बताया कि हिमाचल अकादमी द्वारा प्रदेश के प्रख्यात कलाकारों तथा साहित्यकारों के जीवन वृत्त उनके कला, साहित्य तथा भाशा व संस्कृति पर विशेष योगदान पर आधारित वृत्त चित्रों का निर्माण किया जा रहा है जिन्हें दूरदर्शन केन्द्र शिमला तथा केबल नेटवर्क पर भी प्रसारित किया जाएगा।
इस दौरान प्रीतम चंद, जोगिन्द्र सिहं, सुरेश कुमार, मोनू कुमार, युषील कुमार, दीपक भण्डारी, कमलजीत, रीना कुमारी, बिन्दु कुमारी, काजल आदि कलाकारों ने पहाडी चित्रकला में चित्रांकन किया।