Chandigarh,22.07.19-काॅसमिक आर्ट फाउंडेशन एवं प्राचीन कला केन्द्र के संयुक्त प्रयास से आज यहां टैगोर थियेटर में प्रसिद्ध बालीवुड कलाकार रज़ा मुराद की जुबानी कहानी गज़ल की पेश की गई । इस कार्यक्रम में प्रसिद्ध गज़ल गायक श्री चंदन दास एवं प्रसिद्ध गज़ल गायिका राधिका चोपड़ा ने अपनी खूबसूरत गज़लों से चंडीगढ़ के श्रोताओं का दिल जीत लिया । इस कार्यक्रम में प्राचीन कला केन्द्र के चैयरमैन श्री एस.के.मोंगा,रजिस्ट्ार डाॅ.शोभा कौसर,सुरेंद्र राणा जीएम एसबीआई पंजाब ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की । पारम्परिक द्वीप प्रज्वलन के पश्चात कार्यक्रम की शुरूआत की गई ।
इस कार्यक्रम का संचालन रज़ा मुराद जी ने किया । उनकी आवाज़ में एक खास जादू है जिससे कोई भी अछूता नहीं है ।
कार्यक्रम की शुरूआत चंदन दास जी ने की जिसमें उन्होंने न जी भर के देखा से खूबसूरत आगाज किया । इसके बाद राधिका चोपड़ा ने वो एक नज़र में मुझे पहचान गया है । इसके पश्चात चंदन दास ने रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ, इसके उपरांत चंदन दास और राधिका ने ये दौलत भी ले लो युगल गीत गाकर जगजीत सिंह को श्रद्धाजंलि दी । कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए राधिका ने नुकताचीं है गमें दिल प्रसिद्ध बेगम अख्तर की कुछ गजलें पेश करके रंग जमाया । राधिका ने किया मुझे इश्क,दीवाना बनाना,अब क्या बताउॅं मैं,ये मोहब्बत,तुम अपना रंजोगम,ये गज़ल की निगाहें तथा चंदन दास ने सरकती जाए है रूख से,उसने इंकार तो हरगीज़,दिल न मिलते,तस्वीर बनाता,हंगामा है,पिया नहीं जब गाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया ।