धर्मशाला 18 अगस्त: शहरी विकास, आवास एवं नगर नियोजन मंत्री सरवीन चौधरी ने आज रविवार को धर्मशाला में 63 लाख रुपये की लागत से निर्मित धर्मशाला नगर निगम कार्यालय के न्यू ब्लॉक का उद्घाटन किया।
इस अवसर पर शहरी विकास मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कस्बों का तेजी से विकास हो रहा है और जन सेवाओं की आवश्यकता में भी वृद्धि हो रही है। उन्होंने कहा कि इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए शहरी क्षेत्रों में बुनियादी सुविधाओं की बढ़ोतरी तथा शहरी गरीबों के उत्थान के लिए इस विभाग द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं, ताकि शहरों में रहने वाले गरीब लोगों के जीवन में सुधार लाया जा सके।।
शहरी विकास मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर के नेतृत्व में सरकार ने शहरी क्षेत्रों के विकास और सुविधाओं के सृजन के लिए प्राथमिकता के साथ कई नए कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में बुनियादी सुविधाएं बढ़ाने तथा शहरी गरीबों के उन्नयन हेतु केन्द्र द्वारा प्रायोजित तथा राज्य सरकार द्वारा कई महत्वाकांक्षी योजनाएं लागू की जा रही हैं। जैसे कि स्मार्ट सिटी मिशन, अमृृत मिशन, प्रधान मन्त्री आवास योजना, दीन दयाल अन्तोदय-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन, स्वच्छ भारत मिशन, शहरी क्षेत्रों में सड़को का रखरखाव, सीवरेज योजना, पार्कों तथा पार्किग का निर्माण इत्यादि शामिल है।
उन्होंने कहा कि प्रतिदिन शहरों, घरों, बडे़ प्रतिष्ठानों, उद्योगों, कारखानों, हस्पतालों से निकलने वाले कूडे़-कचरा शहरी क्षेत्रों की एक मुख्य समस्या है सरकार वैज्ञानिक विधि से कूड़े का निष्पादन करने प्रभावी कदम उठा रही है। इसके निष्पादन के लिए क्लस्टर आधार पर ठोस कचरा प्रबंधन संयन्त्र लगाए जाने हेतु प्रयास किये जा रहे हैं।
सरवीन चौधरी नेे कहा कि शहरी स्थानीय निकायों के चुने हुए प्रतिनिधियों के विविध एवं बढ़ते हुए उत्तरदायित्वों के दृष्टिगत नगर पंचायत सदस्यों का मानदेय 2000 रुपये से बढ़ाकर 2500 रुपये, उपाध्यक्ष का 3500 रुपये से बढ़ाकर 4000 रुपये तथा अध्यक्ष का 5000 रुपये से बढ़ाकर 5500 रुपये प्रतिमाह किया गया है। नगर परिषद् के सदस्यों का मानदेय 2200 से बढ़ाकर 2500, उपाध्यक्ष का मानदेय 5000 रुपये से बढ़ाकर 5500 प्रतिमाह तथा अध्यक्ष का मानदेय 6000 रुपये से बढ़ाकर 6500 रुपये प्रतिमाह किया गया है।
उन्होंने कहा कि सरकार ने नगर निगम के पार्षदों का मानदेय 5000 रुपये से बढ़ाकर 5500 रुपये, उपमहापौर का मानदेय 8000 से 8500 तथा महापौर का मानदेय 11000 रुपये से बढ़ाकर 12000 रुपये प्रतिमाह किया गया है।
इस अवसर पर महापौर देवेन्द्र जग्गी, उप-महापौर ओंकार नैहरिया, पार्षद रंधीर सिंह राणा, सरोज गुलरिया, माया देवी, नीनू शर्मा, विमला देवी, रोहित कुमार, सुषमा देवी, अंजू देवी, स्वर्णा, सुनील विक्रम खनका, सर्व चन्द गलोटिया, विशाल जम्बाल, वीरू बालिया, जगदीश रस्तोगी, ब्रिगेडियर सुभाष पाठक, राजेन्द्र कुमार, तेज सिंह, आयुक्त प्रदीप कुमार ठाकुर, अतिरिक्त आयुक्त डॉ.मधु चौधरी, एसडीएम हरीश गज्जु, एमई संजीव सैेनी, राजेश कुमार सहित गणमान्य लोग उपस्थित थे।