सोलन -दिनांक 16.09.2019-शिक्षा, संसदीय कार्य एवं विधि मंत्री सुरेश भारद्वाज ने विभिन्न सामाजिक संगठनों, अभिभावकों तथा अध्यापकों का आह्वान किया है कि वे युवा पीढ़ी को नशे से बचाने के लिए वृहद स्तर पर कार्य करें ताकि देश के भविष्य को सुरक्षित रखा जा सके। सुरेश भारद्वाज गत देर सांय सोलन के ठोडो मैदान में डायनामिक इंडिया युवा मंडल सोलन द्वारा आयोजित 8 दिवसीय हिमाचल उत्सव के शुभारंभ अवसर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित कर रहे थे।
शिक्षा मंत्री ने कहा कि यह प्रसन्नता का विषय है कि युवा मंडल द्वारा हिमाचल उत्सव का आरंभ नशे जैसी सामाजिक बुराई के विरूद्ध अलख जगाने के साथ किया गया है। उन्होंने कहा कि नशा आज एक गंभीर समस्या का रूप ले चुका है और नशे के फैलाव को रोकने के लिए सभी को एकजुट होकर कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने युवा मंडल से आग्रह किया कि न केवल अपने उत्सव के प्रतिदिन लोगों को नशे के विरूद्ध जागरूक करें अपितु यह सुनिश्चित बनाएं कि नशे के विरूद्ध आरंभ की गई मुहिम युवाओं को इस दिशा में प्रेरित करे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार नशे के विरूद्ध व्यापक अभियान कार्यान्वित कर रही है और सभी के सहयोग से इसे सफल बनाया जाएगा।
सुरेश भारद्वाज ने कहा कि युवा पीढ़ी को नशे से बचाने के लिए जहां अभिभावकों को अपना उत्तरदायित्व समझना होगा वहीं सभी विद्यालयों के अध्यापकों को भी इस दिशा में आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि प्रायः यह देखने में आया है कि पहले अभिभावक अपने बच्चों की नशे की लत को छुपाते हैं। अभिभावकों को यह जानना होगा कि नशे की बुराई को छुपाकर वे न केवल अपने बच्चों का भविष्य बर्बाद कर रहे हैं अपितु नशे के सौदागरों को बढ़ावा भी दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभिभावकों का नशे के विरूद्ध उठाया गया कदम पूरे देश के लिए रामबाण सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि अभिभावकों को अपने बच्चों पर नियमित रूप से नजर रखनी होगी। उन्होंने सभी सरकारी एवं निजी विद्यालयों के अध्यापकों से आग्रह किया कि बच्चों को समझाएं कि नशा उन्हें नकारा कर देगा।
शिक्षा मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर के एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि हिमाचल प्रदेश में नशा बड़ी तेजी से पांव पसार रहा है। हम सभी को नशे की बुराई को रोकना होगा। उन्होंने कहा कि नशे के माध्यम से देश की युवा पीढ़ी को समाप्त कर भारत के भविष्य को अंधकारमय बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उपचार पर धन एवं समय बर्बाद करने से बेहतर है कि पहले ही रोग से बचने का उपाय कर लिया जाए। यह नशे के विरूद्ध लड़ाई में सबसे कारगर उपाय है।
उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि अपनी असीम ऊर्जा को देशहित में एवं लक्ष्य साधन में लगाएं और अपने बुजुर्गों से लोकाचार, लोक संस्कृति एवं अपनी परंपराओं की जानकारी प्राप्त करें। उन्होंने कहा कि युवा हमारा अभिमान हैं और इन्हीं के बल पर भारत शीघ्र ही विकास के सर्वोच्च प्रतिमान स्थापित करेगा।
शिक्षा मंत्री ने डायनामिक युवा मंडल सोलन को विभिन्न गतिविधियों के लिए अपनी ऐच्छिक निधि से 21 हजार रुपये की राशि प्रदान करने की घोषणा की।
सुरेश भारद्वाज ने नशे पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस अधीक्षक सोलन मधुसूदन शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. शिव कुमार शर्मा और एसएचओ सोलन धर्मसेन नेगी को हिमाचल रक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया।
इससे पूर्व सोलन विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी रहे डॉ. राजेश कश्यप ने मुख्यातिथि का स्वागत किया। उन्होंने युवाओं का आह्वान किया कि वे जीवन में जो भी सपनें देखें उन्हें पूरा करने के लिए पूर्ण समर्पण के साथ कार्य करें। उन्होंने कहा कि एक चिकित्सक के नाते वे जानते हैं कि नशा किस प्रकार युवाओं को खोखला बना रहा है। उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि नशे से स्वयं भी दूर रहें और अपने साथियों को भी दूर रखें।
पूर्व मंत्री महेंद्र नाथ सोफत, पूर्व सांसद प्रो. वीरेंद्र कश्यप, सोलन से भाजपा के उम्मीदवार रहे डॉ. राजेश कश्यप, नगर परिषद सोलन के अध्यक्ष देवेंद्र ठाकुर, चायल होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष देवेंद्र वर्मा, आढ़ती एसोसिएशन सोलन के उपाध्यक्ष तीर्थानंद भारद्वाज, ग्रीन हिल्स इंजीनियरिंग कॉलेज के चेयरमेन कृपाल सिंह पसरीचा, वरिष्ठ भाजपा नेता इंद्र सिंह मेहता, एपीएमसी सोलन के सदस्य किशन वर्मा, भाजपा तथा भाजयुमो के वरिष्ठ पदाधकारी, अधिवक्ता जितेंद्र पाल ठाकुर, डायनामिक इंडिया युवा मंडल सोलन के अध्यक्ष पंकज सूद, उपाध्यक्ष मुकेश शर्मा, कीर्ति कौशल, रविंद्र पंवर सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति, अधिकारी एवं अन्य इस अवसर पर उपस्थित थे।