सोलन- दिनांक 10.12.2019
मानवाधिकार दिवस पर झाड़माजरी में कार्यक्रम आयोजित
बीबीएन क्षेत्र में स्थापित होगा विधिक सेवा प्रकोष्ठ-न्यायमूर्ति धर्मचंद चौधरी

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सोलन द्वारा आज मानवाधिकार दिवस के उपलक्ष्य में नालागढ़ उपमंडल के झाड़माजरी स्थित बीबीएनआईए परिसर में विधिक साक्षरता एवं जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एवं हिमाचल प्रदेश राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष न्यायमूर्ति धर्मचंद चौधरी मुख्यातिथि के रूप में उपस्थित रहे।
इस शिविर में बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ की विभिन्न औद्योगिक इकाईयों के 300 से अधिक कामगारों ने भाग लिया।
न्यायमूर्ति धर्मचंद चौधरी ने इस अवसर पर कहा कि आज के परिवेश में बढ़ता अपराध मानावधिकार के लिए एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि सभी नागरिकों के मानव अधिकारी महत्वपूर्ण हैं। हमारे देश का संविधान सभी नागरिकों के लिए एक समान अधिकार सुनिश्चित बनाता है। मौलिक अधिकारों के रूप में हमारे संविधान ने सभी नागरिकों को मानव अधिकार सुनिश्चित किए हैं। उन्होंने कहा कि हमें सभी नागरिकों के अधिकारों का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय की भागदौड़ में आगे निकलने की होड़ के कारण अनेक बार मानव अधिकारों के साथ समझौता होता है। यह सुनिश्चित बनाया जाना चाहिए कि सभी नागरिकों के मानव अधिकार सुरक्षित रहें।
उन्होंने मानवाधिकार दिवस के आयोजन के उद्देश्यों के बारे में विस्तृत जानकारी दी।
न्यायमूर्ति धर्मचंद चौधरी ने इस अवसर पर कहा कि बीबीएन क्षेत्र में संगठित व असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए विधिक सेवा प्रकोष्ठ की स्थापना की जाएगी। इस प्रकोष्ठ में कामगार श्रमिक नियमों के अतिरिक्त अपने रोजमर्रा जीवन से संबंधित कानूनी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि इस केंद्र में विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा अधिवक्ता एवं तथा पैरालीगल वालंटियर नियुक्त किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस प्रकोष्ठ की स्थापना राष्ट्रीय विधिक सेवाएं अधिनियम के अनुरूप की जाएगी।
उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में मानवाधिकारांे को सर्वोच्च स्थान दिया गया है। संस्कृति में अनेक उदाहरणों के माध्यम मानव अधिकारों की रक्षा करने की सीख दी गई है। हम सभी को अपनी संस्कृति और देश के संविधान के अनुरूप मानव अधिकारों को सुरक्षित रखना चाहिए।
जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष भूपेश शर्मा ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा कार्यक्रम की जानकारी दी।
कार्यक्रम में नालागढ़ बार एसोसिएएशन के अध्यक्ष डीके कौशल, श्रम एवं समझौता अधिकारी मनीष करोल, एसडीएम नालागढ़ प्रशांत देष्टा, पुलिस अधीक्षक बद्दी रोहित मालपानी ने भी अपने विचार रखे।
अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी गुरमीत कौर ने न्यायमूर्ति धर्मचंद चौधरी सहित सभी गणमान्य अतिथियों का आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर न्यायाधीश न्यायमूर्ति धर्मचंद चौधरी की धर्मपत्नी प्रोमिला चौधरी, राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के सदस्य न्यायमूर्ति प्रेम पाल रांटा, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश वीरेंद्र ठाकुर, राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के प्रशासनिक अधिकारी गौरव महाजन, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सोलन राजेश चौहान, अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी नालागढ़ उपासना शर्मा, सिविल जज नालागढ़ जितेंद्र सैणी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बद्दी एनके शर्मा, बार एसोसिएशन सोलन के अध्यक्ष अजय शर्मा, हिमाचल प्रदेश दवा उत्पादक संघ बीबीएन के उपाध्यक्ष मनोज अग्रवाल व सदस्य सतीश सिंगला, बिक्रम साहनी, डॉ. संदीप विज सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति एवं बड़ी संख्या मंे कामगार उपस्थित थे।
==========================================================

सोलन-दिनांक 10.12.2019
सोलन जिला की पीएलपी का विमोचन 11 दिसम्बर को

राष्ट्रीय कृषि विकास एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा सोलन जिला की संभाव्यता आधारित ऋण योजना (पीएल) 2020-21 का विमोचन 11 दिसम्बर, 2019 को सांय 3.00 बजे उपायुक्त सोलन केसी चमन द्वारा किया जाएगा।
यह जानकारी नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक अशोक चौहान ने दी।
============================================================
सोलन-दिनांक 10.12.2019
प्याज़ पर निर्धारित लाभांश ही वसूले व्यापारी-प्रशांत देष्टा

उपमंडलाधिकारी नालागढ़ प्रशांत देष्टा ने आज नालागढ़ में खाद्य नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता मामले विभाग के अधिकारियों, व्यापार मण्डलों के प्रतिनिधियों और सब्जी विक्रेता संगठनों के साथ बैठक की। उन्होंने बैठक में उपस्थित अधिकारियों को जिला प्रशासन द्वारा प्याज की थोक व परचून दरों के संबंध में जारी अधिसूचना से अवगत करवाया।
प्रशांत देष्टा ने कहा कि उपमंडल में प्याज़ की दरों को नियन्त्रित रखने के लिए सभी विभागीय अधिकारी अपने-अपने स्तर पर सजग रहे तथा जिला प्रशासन द्वारा अधिसूचना की पूरी तरह अनुपालना सुनिश्चित बनाई जाए।
उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा थोक व परचून दुकानदारों द्वारा प्याज़ पर लिए जाने वाले लाभांश की अधिकतम सीमा निर्धारित की गई है। थोक व्यापारियांे के लिए यह सीमा 5 प्रतिशत तथा परचून व्यापारियों के लिए 24 प्रतिशत तय की गई है। इस 24 प्रतिशत लाभांश में परिवहन भाड़ा, लदाई, उतराई, कमी व अन्य सभी खर्चे शामिल हैं।
उन्होंने सभी व्यापारियों से आग्रह किया है कि वे निर्धारित सीमा तक का लाभांश ही वसूल करें। उन्होंने कहा कि जो भी व्यापारी इस अधिसूचना का उल्लंघन करेगा उसके पास से पूरा प्याज़ जब्त कर लिया जाएगा और आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के तहत सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
उन्होंने आमजन से आग्रह किया कि यदि कोई सब्जी विक्रेता उनसे प्याज़ के निर्धारित दर से अधिक दाम वसूल करता है तो इसकी सूचना उपमंडल प्रशासन को दें।
बैठक में खंड विकास अधिकारी नालागढ़ राजकुमार, नायब तहसीलदार बद्दी बलराज नेगी, नगर परिषद नालागढ़ व बद्दी के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।
=======================================================
सोलन-दिनांक 10.12.2019
नशे पर अंकुश के लिए पुलिस को समय पर सूचना आवश्यक
आईटीआई कसौली में नशा निवारण अभियान के तहत जागरूकता कार्यक्रम आयोजित

नेहरू युवा केन्द्र सोलन द्वारा आज सोलन जिला के धर्मपुर विकास खंड के अंतर्गत औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) कसौली में प्रदेश सरकार द्वारा कार्यान्वित किए जा रहे मादक पदार्थ एवं मदिरा व्यसन पर रोक अभियान के अन्तर्गत जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कसौली थाना के थाना प्रभारी लायक ने की।
इस कार्यक्रम में 240 छात्रों एवं अन्य को नशे के दुष्प्रभावों व इसके बचाव की जानकारी प्रदान की गई।
लायकराम ने कहा कि आज युवा वर्ग नशे की चपेट मंे आ रहा है जो पूरे समाज के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि नशाखोरी को समाप्त करने के लिए सरकार द्वारा नशा निवारण अभियान कार्यान्वित किया जा रहा है। अभियान के अन्तर्गत जिला के सभी शैक्षणिक संस्थानों में नशे पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस अभियान में सफलता तभी प्राप्त होगी जब सभी युवा नशे के कारोबार एवं नशाखोरी की रोकथाम को लेकर एकजुट होकर प्रयास करेंगे।
लायकराम ने कहा कि आज नशा जहां सड़क दुर्घटनाओं का मुख्य कारण है वहीं नशे के सेवन से ही युवा साइबर क्राईम की ओर बढ़ रहे हैं। बलात्कार तथा चोरी जैसी घटनाओं का कारण भी नशा एवं मादक द्रव्यों की खरीद है।
थाना प्रभारी ने कहा कि नशे की रोकथाम के लिए सर्वप्रथम युवाओं की पहल आवश्क है। उन्होंने कहा कि यदि युवा नशे के लिए पूछने पर पहली बार न कहना सीख लें तो नशाखोरी पर काफी हद तक अंकुश लगाया जा सकता है। इस दिशा में युवाओं को अपने साथियों के साथ समूह चर्चा करनी चाहिए और सभी को नशा न करने के लिए प्रेरित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि नशे के सौदागरों के विरूद्ध बिना किसी भय के पुलिस को सूचना दें। उन्होंने कहा कि जो नशे के सौदागरों की सूचना पुलिस को देते हैं तो ऐसे व्यक्तियों को पुलिस द्वारा सम्मानित किया जाता है।
लायकराम ने कहा कि नशामुक्त समाज के लिए हमें अपने परिवार, गांव व शहर से पहल करनी होगी। इसी से पूरे जिला तथा प्रदेश भर मेे अभियान की सफलता सुनिश्चित हो पाएगी।
पुलिस आरक्षी पूनम ने भी इस अवसर पर नशे के विरूद्ध अपने विचार रखे।
नेहरू युवा केन्द्र सोलन के लेखाकार लेखराज कौशिक ने नेहरू युवा केंद्र द्वारा नशा निवारण अभियान पर आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि युवक मंडल, महिला मंडल व छात्र संगठन इस अभियान की सफलता में अहम भूमिका निभा सकते हैं।
आईटीआई कसौली के प्रधानाचार्य ने इस अवसर पर कहा कि युवा वर्ग नशे से दूर रहें तथा अपने साथियों को भी नशे से दूर रहने के लिए कहें।
इस अवसर पर छात्रों को नशे के विरूद्ध शपथ भी दिलाई गई।
इस अवसर पर औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान कसौली के अधिकारी एवं कर्मचारी तथा बड़ी संख्या में प्रशिक्षु उपस्थित थे।
=======================================================
सोलन-दिनांक 10.12.2019
सामाजिक व आर्थिक समस्याएं खड़ी कर रहा नशा-रोहित राठौर

उपमंडलाधिकारी सोलन रोहित राठौर ने छात्रों सहित शहरवासियों से आग्रह किया कि वे न तो स्वयं नशा करें और न औरों को करने दें। रोहित राठौर ने आज यहां नगर परिषद सोलन के अधिकारियों एवं कर्मचारियों सहित औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान सोलन के छात्रों को नशे से दूर रहने की शपथ दिलाई।
रोहित राठौर ने इस अवसर पर कहा कि समाज में नशे के बढ़ते प्रचलन के कारण अनेक सामाजिक, पारिवारिक एवं आर्थिक कठिनाईयां खड़ी हो रही हैं। नशा करने वाले जहां अपने परिवार एवं समाज के लिए समस्या बनकर उभर रहे हैं वहीं नशा आर्थिक रूप से परिवारों को संकट में भी डाल रहा है। उन्होंने कहा कि 15 दिसम्बर, 2019 तक प्रदेश सरकार द्वारा नशे के विरूद्ध सघन अभियान कार्यान्वित किया जा रहा है। इस अभियान के माध्यम से जहां नशे से दूर रहने के लिए समाज को जागरूक बनाया जा रहा है वहीं लोगों को यह समझाने का प्रयास भी किया जा रहा है कि नशा ऐसा धीमा जहर है कि जिसका अंत केवल मृत्यु है।
उन्होंने कहा कि अनेक अनुसंधानांे ने यह सिद्ध किया है कि किसी भी प्रकार का नशा हानि पहुंचाने के अतिरिक्त और कुछ नहीं देता। उन्होंने कहा कि अनेक बार युवा यह सोच कर धूम्रपान एवं मदिरा सेवन आरंभ करते हैं कि इससे उन्हें परीक्षा सहित अन्य दबावों से मुक्ति मिलेगी। धीरे-धीरे यह लत व्यापक आकार लेती है और नशे का दायरा बढ़ता जाता है। उन्होंने कहा कि दबाव से मुक्ति के लिए योग, व्यायाम एवं खेलों का प्रयोग बेहतर विकल्प है। यह जहां मनुष्य को मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ रखते हैं वहीं समाज में उसकी छवि को निखारते भी हैं।
रोहित राठौर ने सभी से आग्रह किया कि नशा आरम्भ करने से पहले नशे की हानियों के बारे में सोच लें ताकि वे सदैव नशाखोरी से दूर रह सकें।
उन्होंने छात्रों से आग्रह किया कि वे नियमित रूप से योग एवं खेलों में भाग लें, अच्छी पुस्तकें पढ़ने की रूचि विकसित करें और अपने सुखद भविष्य के निर्माण के लिए प्रयासरत रहें।
नगर परिषद सोलन के अध्यक्ष देवेंद्र ठाकुर, नगर परिषद सोलन के कार्यकारी अधिकारी एवं तहसीलदार सोलन गुरमीत नेगी, नगर परिषद सोलन के अधिकारी एवं कर्मचारी तथा आईटीआई सोलन के छात्र बड़ी संख्या में इस अवसर पर उपस्थित थे।
================================================
सोलन -दिनांक 10.12.2019
जल, ऊर्जा संरक्षण, कचरा प्रबंधन, स्वच्छता एवं पौधरोपण हमारा सामूहिक उत्तरदायित्व-देवेंद्र ठाकुर

नगर परिषद सोलन के अध्यक्ष देवेंद्र ठाकुर ने कहा कि जल एवं ऊर्जा संरक्षण, कचरा प्रबंधन, स्वास्थ्य, पौधरोपण एवं स्वच्छता विकास के महत्वपूर्ण घटक हैं और इन सभी की दिशा में सफलतापूर्वक आगे बढ़ना जन-जन का सामूहिक उत्तरदायित्व है। देवेंद्र ठाकुर आज यहां महत्वकांक्षी अंगीकार कार्यक्रम के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा मुख्य रूप से प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अन्तर्गत लाभार्थियों के लिए जल एवं ऊर्जा संरक्षण, कचरा प्रबंधन, स्वास्थ्य, पौधरोपण एवं स्वच्छता के विषय में सामाजिक व्यवहार में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए अंगीकार कार्यक्रम आरम्भ किया गया है। उन्होंने कहा कि अंगीकार के तहत सामुदायिक सहभागिता एवं सूचना, शिक्षा एवं सम्प्रेषण गतिविधियों के माध्यम से विकास के इन महत्वपूर्ण घटकों के विषय में जन-जन को जागरूक बनाना है। उन्होंने कहा कि जल एवं ऊर्जा का आवश्यकतानुसार प्रयोग एवं संरक्षण जहां सम्पूर्ण मानव जाति के अस्तित्व के लिए आवश्यक है वहीं कूड़े-कचरे के वैज्ञानिक प्रबंधन के द्वारा ही सभी स्वस्थ रह सकते हैं।
देवेंद्र ठाकुर ने कहा कि पौधरोपण पृथ्वी का सुरक्षा चक्र है और स्वच्छता हम सभी की मूलभूत आवश्यकता। उन्होंने सभी से आग्रह किया कि प्रकृति द्वारा प्रदत्त प्रत्येक वस्तु का संरक्षण हमारा दायित्व है और इस दिशा में हम सभी को संगठित प्रयास करने होंगे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए उपमण्डलाधिकारी सोलन रोहित राठौर ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने एक स्वच्छ भारत की परिकल्पना की थी और इस परिकल्पना को साकार करने में सरकार और प्रशासन को आमजन का सहयोग आवश्यक है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार देश को पूर्ण रूप से स्वच्छ बनाने के लिए सघन अभियान कार्यान्वित कर रही है। हम सभी को अपने आवास तथा परिवेश की सफाई के महत्व को समझना होगा और स्वच्छता एवं आवश्यकतानुसार संरक्षण सुनिश्चित बनाना होगा।
उन्होंने सभी से आग्रह किया कि स्वच्छता के कार्य को निरन्तर जारी रखें।युवा सही मायनों में स्वच्छता के दूत हैं और युवाओं को यह प्रण लेना होगा कि न तो वे स्वंय कचरा यहां-वहां फैंकेगें और न ही किसी अन्य को ऐसा करने देंगे। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी को यह भी ध्यान रखना होगा कि यदि आज जल और ऊर्जा संरक्षण के साथ-साथ कचरा प्रबंधन एवं स्वच्छता पर ध्यान नहीं दिया गया तो भविष्य की समस्याओं से भी युवाओं को ही निपटना होगा। वर्तमान पीढ़ी को भी आने वाले पीढि़यों के लिए स्वस्थ एवं सुरक्षित पर्यावरण प्रदान करने की दिशा में सजग रहकर कार्य करना है।
रोहित राठौर ने शहरवासियों से आग्रह किया कि वे गीले व सूखे कचरे को पृथक करें ताकि कूड़े-कचरे का वैज्ञानिक प्रबंधन किया जा सके।
उन्होंने इस अवसर पर कूड़ा-कचरा बीनने वाले, घर-घर जाकर कचरा एकत्रित करने वाले सफाई कर्मचारियों तथा अपने घर से गीला व सूखा कचरा पृथक करके देने वाले लोगों को सम्मानित भी किया।
रोहित राठौर ने छात्रों के साथ पर्यावरण, जल व ऊर्जा संरक्षण विषय पर परिचर्चा भी की।
इस अवसर पर उपस्थित छात्रों एवं अन्य को स्वच्छता की शपथ भी दिलाई गई।
उन्होंने आईटीआई सोलन के प्रशिक्षुओं की स्वच्छता रैली को हरी झण्डी दिखाकर रवाना भी किया।
उन्होंने इस अवसर पर मोरपंखी का पौधा भी रोपा।
इस अवसर पर तहसीलदार सोलन एवं नगर परिषद सोलन के कार्यकारी अधिकारी गुरमीत नेगी, नगर परिषद सोलन के सफाई कर्मचारी, औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) सोलन के प्रशिक्षुओं सहित बड़ी सख्ंया में अन्य छात्र उपस्थित थे।