शेरों का जोड़ा गोपालपुर चिडियाघर का बनेगा मुख्य आकर्षण: गोविन्द ठाकुर
धर्मशाला, 14 दिसम्बर: वन मंत्री गोविन्द ठाकुर ने आज धौलाधार प्रकृति उद्यान (चिडियाघर) गोपालपुर में हीमल और अकीरा नामक एशियाई शेरों के जोडे़ को आम जनता के समक्ष प्रदर्शन के लिये बाडे़ में छोड़ा। उन्होंने कहा कि शेरों का जोड़ा यहां आने वाले लोगों व बच्चों के लिये मुख्य आकर्षण होगा और इससे उन्हेें प्रकृति सरंक्षण की भी प्रेरणा मिलेगी।
वन मंत्री ने इस अवसर पर चिडियाघर के बेहतर रख-रखाव के लिये वन्य प्राणी विंग की सराहना की और कर्मचारियों व अधिकारियों को वन्य प्राणियों के संरक्षण का आहवान किया और अच्छा काम करते रहने के लिये प्रोत्साहित किया।
यह शेरों का जोड़ा गुजरात के शक्कूरबाग चिडियाघर से वन्य प्राणी आदान प्रदान कार्यक्रम के तहत गोपालपुर में 9 नवम्बर को लाया गया था और आवश्यक संगरोध अवधि के बाद अब इसे आम जनता के लिये समर्पित किया जा रहा है। नर शेर हीमल की आयु 9 वर्ष और मादा शेर अकीरा की आयु पंाच वर्ष के करीब है। बब्बर शेर भारत वर्ष में गुजरात के जूनागढ़ और अमरोली जिलों में ही प्राकृतिक तौर पर पाये जाते हैं।
इसके अतिरिक्त हरियाणा के भिवानी चिडियाघर से भी दो चिंकारा प्रजाति के हिरण गोपालपुर चिडियाघर में लाये गये हैं और इन्हें भी आज ही वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने जनता के लिये समर्पित किया। नर चिंकारा पवन व मादा चिंकारा वर्षा की आयु तीन-तीन वर्ष है इन दोनों प्रजातियों के वन्य प्राणियों के आने से गोपालपुर चिडियाघर में रौनक बढ़ गई हैं।
इस अवसर पर देहरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक होशियार सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव वन हिमाचल प्रदेश राम सुभाग सिंह, प्रधान मुख्य अरण्यपाल (हौफ) अजय कुमार, प्रधान मुख्य अरण्यपाल वन्य प्राणी डॉक्टर सविता तथा अरण्यपाल धर्मशाला देवराज कौशल भी उपस्थित रहे।
000


तंेदुआ व अन्य बिल्लियों के उपर लिखी पुस्तक का विमोचन

धर्मशाला, 14 दिसम्बर: वन मंत्री गोविन्द ठाकुर ने आज धौलाधार प्रकृति उद्यान (चिडियाघर) गोपालपुर में डॉ0 संजय कुमार धीमान द्वारा लिखित पुस्तक ‘‘कैट्स आफ हिमालय’’ का विमोचन किया।
डॉ0 संजय कुमार धीमान अब तक 11 पुस्तकें लिख चुके हैं तथा वर्तमान में क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी (उड़न दस्ता) के पद पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। डॉ0 संजय कुमार धीमान द्वारा लिखित पुस्तक में हिमालय क्षेत्र (जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड व हिमाचल प्रदेश) में पाई जाने वाली अतिसुन्दर व दुर्लभ बिल्लियों जैसे बर्फानी तेंदुआ, सामान्य तेंदुआ, तेंदुआ बिल्ली, जंगली बिल्ली, लिंक्स रस्टी बिल्ली व घरेलु बिल्लियों के व्यवहार व रहने के ठिकानों व विलुप्ति के स्तर के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है।
वन मंत्री ने लेखक के प्रयास की खूब सराहना की तथा सभी स्टेक होल्डर्स से अपील की है कि वह इन दुर्लभ बिल्लियों को बचाने के लिये हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा किये जा प्रयासों में अपनी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करे। उन्होंने ये भी कहा की कही ऐसा न हो की कही बहुत देर हो जाये तथा हमारी आने वाली पीढ़ियां इन दुर्लभ बिल्लियां की झलक के लिए तरसे।