दीप हमारी ऊर्जा और संकल्प का प्रतीक है। उसे सामूहिक रूप से प्रकट करने का आवाहन कर प्रधानमंत्री जी ने राष्ट्र को कोरोना के ख़िलाफ़ युद्ध में एकजुट करने की अनूठी पहल की है। आज हरियाणा ग्रन्थ अकादमी व ग्रामोदय के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित तमसो मा ज्योतिर्गमय ऑनलाइन कवि सम्मलेन की अध्यक्षता करते हुए अकादमी उपाध्यक्ष डॉ. वीरेंद्र सिंह चौहान ने ये टिप्पणी की ।

दीप दान व तमसो मा ज्योतिर्गमय विषय पर आयोजित ऑनलाइन काव्य में ट्राइसिटी के इलावा देश प्रदेश के अनेक जाने-माने कवि और कवित्री यों ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया सभी ने कोरोना महामारी से बचने हेतु अपनी अपनी रचनाओं के माध्यम से सभी को जागरूक किया है आज सभी में दीपदान के लिए उत्साहवर्धन के साथ-साथ अंधेरे से उजाले की ओर प्रकाश पर्व का महत्व भी अपनी रचनाओं के माध्यम से सभी को बताया और पुलिस और प्रशासन को सहयोग देने के साथ-साथ सभी को यही संदेश दिया कि घर पर ही रहे सभी निर्देशों का पालन करें और अपनी अपनी कविताओं के माध्यम से सभी वे तमाम जानकारियां दी कि किस तरह से हम कोरोना महामारी से बच सकते हैं और सभी को यह संदेश दिया है कि आज आप शाम 9:00 बजे अपने घर पर रहकर दीया, मोमबत्ती टॉर्च या मोबाइल की लाइट जरूर जलाएं और सभी ने देशहित में भाईचारे की भावना को बढ़ाने की प्रार्थना करते हुए सभी को एकमत हो। रचना पाठ करने वाले कवि व कवित्रयों के नाम इस तरह से हैं
प्रतिभा माही, नीलम त्रिखा, सविता गर्ग, शीला गहलावत, भरत भूषण वर्मा, राशि श्रीवास्तव ,शिवाजी अग्रवाल, सुनीता राणा ,रेनू गुलाटी ,डॉक्टर किरण जैन, मंजीत कौर ,अरुणा ,रजनी राणा शिवानी दीक्षित, रेणुका चुघ, एकता डांग मनीषा भसीन मधु कैथल आदि अनेक कवियों ने अपनी-अपनी रचनाएं सुनाकर देश प्रेम व एकता का परिचय दिया है सभी को दीपदान करने के लिए जागरूक करते हुए सभी देशवासियों का उत्साह वर्धन किया है