सोलन-दिनांक 23.05.2020
सोलन जिला से आज कोरोना संक्रमण जांच के लिए भेजे गए 234 सैम्पल
गत दिवस के 268 रक्त नमूनों में से 05 की रिपोर्ट पोजिटिव

सोलन जिला से आज कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि के लिए 234 व्यक्तियों के रक्त नमूने केंद्रीय अनुसंधान संस्थान कसौली भेजे गए। यह जानकारी आज यहां जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.एन.के गुप्ता ने दी।
डाॅ. गुप्ता ने कहा कि इन 234 रक्त नमूनों में से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नालागढ़ से 61, नागरिक अस्पताल बद्दी से 69, ईएसआई काठा से 15, एमएमयू अस्पताल कुम्हारहट्टी से 04, क्षेत्रीय अस्पताल सोलन से 24, नागरिक अस्पताल कण्डाघाट से 18, ईएसआई परवाणू से 11, ईएसआई बरोटीवाला से 17 तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सायरी से 15 सैम्पल कोरोना वायरस संक्रमण जांच के लिए भेजे गए हैं।
उन्होंने कहा कि गत दिवस भेजे गए 268 रक्त नमूनों में से 05 व्यक्तियों की रिपोर्ट कोरोना वायरस संक्रमण के लिए पोजिटव प्राप्त हुई है। 249 सैम्पल की रिपोर्ट नेगेटिव है। इनमें से 14 रक्त नमूनों की रिर्पोअ अभी आनी शेष है।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के लिए पोजिटिव पाए गए सभी व्यक्ति पश्चिम बंगाल से राज्य आए थे। वर्तमान में यह सभी नालागढ़ उपमण्डल के क्वारेनटाईन केन्द्र रामशहर में हैं। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा इन व्यक्तियों के सम्पर्क में आए लोगों को सूचीबद्ध कर क्वारेनटाईन किया जा रहा है। इनके सम्पर्क में आए सभी व्यक्तियों की कोविड-19 के लिए जांच की जाएगी।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने बाहरी राज्यों से प्रदेश में आने वाले लोगों से आग्रह किया कि वे क्वारेनटाइन सम्बन्धी दिशा-निर्देशों का पूर्ण पालन करें। उन्होंने कहा कि इन नियमों की अनुपालना न केवल बाहर से आने वाले व्यक्तियों के परिवारों अपितु समाज को किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाने में सहायक सिद्ध होगी।
डाॅ. गुप्ता ने सभी से आग्रह किया कि खांसी, जुखाम, बुखार या सांस लेने में तकलीफ होने पर शीघ्र समीप के स्वास्थ्य संस्थान से सम्पर्क करें। इस सम्बन्ध में किसी भी सहायता के लिए हैल्पलाईन नम्बर 104 तथा दूरभाष नम्बर 221234 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

====================================

सोलन-दिनांक 23.05.2020
सोलन जिला में 5477 व्यक्ति स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में- डाॅ. गुप्ता

कोविड-19 के खतरे के दृष्टिगत स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्रालय के दिशा-निर्देशानुसार सोलन जिला में वर्तमान में 5477 व्यक्तियों को निगरानी में रखा गया है। यह जानकारी आज यहां जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एन.के. गुप्ता ने दी।
डाॅ. गुप्ता ने कहा कि इन 5477 व्यक्तियों में से 4955 व्यक्तियों को होम क्वारेनटाईन किया गया है। इनमें से 4815 व्यक्ति ऐसे हैं जिन्हें अन्य राज्योें से जिला में आने के उपरान्त होम क्वारेनटाईन किया गया है। 140 अन्य व्यक्ति होम क्वारेनटाइन हैं। 507 व्यक्ति संस्थागत क्वारेनटाईन में हैं।
उन्होंने कहा कि जिला में वर्तमान में 10 व्यक्तियों को आईसोलेशन में रखा गया है। इनमें से 06 व्यक्तियों को क्षेत्रीय अस्पताल सोलन में, 01 व्यक्ति को नागरिक अस्पताल अर्की में, 01 व्यक्ति को ईएसआई काठा में तथा 02 व्यक्तियों को नालागढ़ में आईसोलेट किया गया है। 05 कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति ईएसआई काठा में उपचाराधीन हैं।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि जिला में अभी तक 3723 व्यक्ति 28 दिन की निगरानी अवधि पूर्ण कर चुके हैं।
उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि सार्वजनिक स्थानों पर सोशल डिस्टेन्सिग नियम का पालन करें और दो व्यक्तियों के मध्य कम से कम दो गज की दूरी बनाए रखें। उन्होेंने सभी से आग्रह किया कि आरोग्य सेतु एप डाऊनलोड करें और इस एप में दिए गए निर्देशों का पालन करें। उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों से आ रहे सभी व्यक्तियों को क्वारेनटाइन के सम्बन्ध में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशांे का पालन करना आवश्यक है।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने सभी से आग्रह किया कि कोरोना वायरस के खतरे के विषय में आधिकारिक सूूचना पर ही विश्वास करें और अफवाहों से बचें।

==================================

देहरा में स्थापित होगी सीएसडी कैंटीन,ईएसएम तथा ईसीएचएस पॉलीक्लिनिक---बिक्रम

कैबिनेट बैठक में प्रदेश सरकार ने रक्षा मंत्रालय के नाम भूमि हस्तांतरित करने का लिया निर्णय

KANGRA,23.05.20-हिमाचल प्रदेश सरकार ने जिला कांगड़ा के देहरा क्षेत्र में केंद्रीय विश्वविद्यालय के उपरांत वर्तमान सैनिकों तथा पूर्व सैनिकों के साथ साथ उनके परिवारों के लिए एक बड़ा निर्णय लिया है । प्रदेश सरकार ने देहरा में ईसीएचएस (पॉलीक्लिनिक) ईएसएम तथा सीएसडी कैंटीन स्थापित करने के लिए सरकारी भूमि रक्षा मंत्रालय भारत सरकार के नाम कर दी है । सरकार के इस निर्णय से जसवां परागपुर विधानसभा क्षेत्र सहित समूचे जिले कांगड़ा के फौजी भाई बहनों के साथ उनके परिवारिक सदस्य भी लाभान्वित होंगे । उद्योग मंत्री विक्रम सिंह ठाकुर ने बताया कि देहरा के अंदर ईसीएचएस (पॉलीक्लिनिक) ईएसएम तथा सीएसडी कैंटीन खोलने का निर्णय मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में कैबिनेट मीटिंग के दौरान लिया गया है। देहरा सब डिवीजन के फौजी भाई बहनों की लंबे अरसे से चली आ रही पुरानी मांग को जयराम सरकार ने पूर्ण किया है और सरकारी भूमि भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के नाम करने को मंजूरी प्रदान कर दी गई है । लंबे अरसे से फौजी परिवारों की मांग सरकार के पास विचाराधीन थी और अब सरकार द्वारा कैबिनेट मंजूरी मिलने के उपरांत देहरा के अंदर ईसीएचएस (पॉलीक्लिनिक) ईएसएम तथा सीएसडी कैंटीन खुलने का मार्ग प्रशस्त हो गया है । सेंट्रल यूनिवर्सिटी के उपरांत रक्षा मंत्रालय के नाम भूमि हस्तांतरित कर सरकार ने देहरा सबडिवीजन की जनता के हितों का ध्यान रखा है इसके लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है ।
=======================================
हवाई सेवाओं से आने वाले नागरिकों को भी क्वारंटीन किया जाएगा: डीसी
गगल एयरपोर्ट को सेनेटाइज करने के दिए निर्देश
धर्मशाला, 23 मई। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने कहा कि हवाई सेवाओं के माध्यम से आने वाले नागरिकों को भी संस्थागत क्वारंटीन में भेजा जाएगा उनका मेडिकल चेकअप तथा काविड-19 के तहत सेंपल भी लिए जाएंगे ताकि किसी भी स्तर पर कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। इस बाबत शनिवार को उपायुक्त राकेश प्रजापति ने एयरपोर्ट अथॉरिटी गगल के अधिकारियों के साथ कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के प्रबंधों को लेकर एक आवश्यक बैठक भी आयोजित की गई।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि बाहरी राज्यों के रेड जोन तथा अन्य जोन से फ्लू के लक्षणों वाले नागरिकों को संस्थागत क्वारंटीन में भेजना अनिवार्य है तथा इसी तरह से हवाई सेवाओं से आने वाले नागरिकों पर भी यह नियम लागू रहेंगे। उपायुक्त ने कहा कि कांगड़ा जिला में एचपीटीडीसी के होटलों में भी पेड क्वारंटीन की व्यवस्था की गई है।
उन्होंने कहा कि सरकार के स्तर घरेलू हवाई सेवाओं को आरंभ करने का निर्णय लिया जा चुका है जिसके चलते ही कांगड़ा जिला के गगल एयरपोर्ट को भी पूरी तरह से सेनेटाइज करने के दिशा निर्देश दिए गए हैं इसके साथ सामाजिक दूरी की अनुपालना के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा गया है।
उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भी एयरपोर्ट के बाहर ही बाहर से आने वाले नागरिकों की थर्मल स्क्रीनिंग करने के लिए पुख्ता प्रबंध करने के दिशा निर्देश दिए गए हैं।
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि जिला प्रशासन कोविड-19 के संक्रमण से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है तथा लोगों को भी नियमित तौर पर घर में रहने के लिए तथा मास्क के साथ ही बाहर निकलने के लिए जागरूक किया जा रहा है।
गोरखा परिवारों ने दिए पांच हजार मास्क
धर्मशाला, 23 मई। गोरखा परिवारों ने कोरोना योद्वाओं के लिए जिला प्रशासन के माध्यम से पांच हजार मास्क भेंट किए। उपायुक्त राकेश प्रजापति ने गोरखा परिवारों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि कोविड-19 की महामारी से निपटने के लिए स्वैच्छिक संस्थाएं आगे आ रही हैं तथा वालंटियर्स भी प्रशासन और सरकार की खुलकर मदद कर रहे हैं। उन्होंने कोविड-19 की महामारी को रोकने के लिए योगदान करने वाली संस्थाओं एवं नागरिकों का भी आभार व्यक्त किया है।

=================================

कांगड़ा जिला में कोरोना पॉजिटिव के छह नए मामले
पांच नागरिक मुबई से आए थे वापिस, एक जलंधर से
कोविड केयर सेंटर में शिफ्ट किए पांच कोविड पॉजिटिव नागरिक
धर्मशाला, 23 मई: उपायुक्त कांगड़ा राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि शनिवार को कांगड़ा जिला में कोरोना पॉजिटिव के छह नए मामले सामने आए हैं जिनमें से पांच नागरिक मुंबई से वापिस आए थे और परौर संस्थागत क्वारंटीन सेंटर में रखा गया था और अब इनको कोविड केयर सेंटर बैजनाथ में शिफ्ट कर दिया गया है इनमें पालमपुर से एक, लंबागांव से दो भवारना से एक तथा एक नागरिक जयसिंहपुर से संबंधित है जबकि एक नागरिक जलंधर से वापिस आया है उसको राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज टांडा में रखा गया था। कांगड़ा जिला में अब कोरोना पॉजिटिव रोगियों की संख्या बढ़कर पैंतीस हो चुकी है।
उपायुक्त ने लोगों से अपील की है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सभी नागरिक अपने ही घरों में रहें तथा बहुत आवश्यक हो तो ही अपने घरों से निकलें। उन्होंनेे कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिये जरूरी है कि प्रशासन और विशेषज्ञों की सलाह का पालन करें। उन्होंने कहा कि बार-बार हाथ धोने, अपने चेहरे को न छूने और सैनिटाईजर के प्रयोग जैसी आम सावधानियों को बरतते हुए, इस संक्रमण से बचा जा सकता है। उन्होंने लोगों से सामाजिक दूरी का पालन करने, घर में बुजुर्गों का ध्यान रखने तथा इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय द्वारा संक्रमण रोकने के लिए निर्देशित आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप डाउनलोड करने का भी आग्रह किया है।
उपायुक्त ने कहा कि सभी नागरिकों को स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों की अनुपालना करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर उनके गांव में या परिवार में बाहरी क्षेत्र से कोई भी व्यक्ति आया हो तो उसके बारे में तुरंत प्रशासन को सूचित करें ताकि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचने वाले इस कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।
============================
त्रिवेंद्रम से ट्रेन के माध्यम से 35 नागरिक पहुंचे हिमाचल
उपायुक्त राकेश प्रजापति ने बताया कि केरल की राजधानी त्रिवेंद्रम से 35 नागरिक ट्रेन के माध्यम से प्रातः दस बजे पठानकोट चक्की बैंक पहुंचे हैं तथा इन नागरिकों को संस्थागत क्वारंटीन सेंटर में भेजा गया है तथा मेडिकल चेकअप किया गया है। उन्होंने बताया कि रविवार प्रातः दो बजे भी महाराष्ट्र के थाने से ट्रेन के माध्यम से नागरिक चक्की बैंक पहुंचेंगे। इन नागरिकों को भी क्वारंटीन सेंटर तथा अन्य जिलों में पहुंचाने का प्रबंध कर लिए गए हैं।