गुरुग्राम,01.06.20-दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के अस्पतालों में केवल दिल्ली के लोगों के ईलाज वाली बात कहकर अनेकों प्रश्न के बीच में खड़ा कर लिया है। यह बात सोमवार को भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रमन मलिक ने कहा कि वे दिल्ली के मुख्यमंत्री से पूछना चाहता हूं कि वह बताएं कि वे कहां के हैं। क्या वह हरियाणा के हैं जहां उनका जन्म और परवरिश हुई या उत्तर प्रदेश के हैं जहां उन्होंने अपना निवास रखा या फिर दिल्ली के हैं जहां के वह मुख्यमंत्री बने औरैया कर्नाटक के हैं जहां वह जाकर अपना इलाज कराते हैं।
मैं उनसे यह भी कहना चाहूंगा कि वह हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल से कुछ सीखें जो यह मानते हैं कि प्रवासी मजदूर उनके राज्य की तरक्की में भागीदार हैं। उन्होंने प्रवासी मजदूरों की घर वापसी के लिए ट्रेन पर उठाए खर्च को लेने से इनकार कर दिया। वही प्रवासी मजदूरों के साथ आपने जो खेल खेला वह पूरे देश में और दिल्ली ने देखा है। जिस दिन से गुड़गांव ने दिल्ली के साथ आवाजाही खोल दी, उस दिन से अगर आंकड़े देखें तो पिछले 5 दिनों में ही कोरोना संक्रमण से ग्रस्त लोगों की संख्या दुगनी से ज्यादा हो गई है। लेकिन आज भी यह संख्या दिल्ली में कई बारी एक दिन में जितने लोगों की संक्रमित होने से खबर आती है, उससे कम है। आज की तारीख में गुरुग्राम जिले में कोरोना संक्रमण के 903 मामले हैं जिसमें से पिछले 10 दिनों में 615 मामले सामने आए और पिछले 5 दिनों में 566 मामले आए हैं जो यह दिखाता है कि दिल्ली के साथ बॉर्डर बोलते हैं गुरुग्राम के अंदर कोरोना संक्रमण की बाढ़ आ गई।
हरियाणा ने चाहे गुड़गांव हो या फरीदाबाद या सोनीपत कभी भी किसी भी व्यक्ति को इलाज के लिए मना नहीं किया, लेकिन केजरीवाल एक संकीर्ण मानसिकता के प्रतिबिंब हैं। साथ में औछी राजनीति करके भारत के नागरिकों में भेदभाव करते हैं। जहां हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किडनी और कैंसर से पीड़ित मरीजों के लिए पेंशन की योजना शुरू कर दी, वहीं आप अपने प्रदेश में गरीबों के साथ मनभेद और तिरस्कारपूर्ण व्यवहार करने के बार बार सबूत देते हैं।
आप केंद्र सरकार से आर्थिक अनुदान मांग रहे हैं लेकिन यह भी सत्य है कि दिल्ली पुलिस का खर्चा आप नहीं उठाते दिल्ली में बहुत सारे केंद्र सरकार द्वारा संचालित स्वास्थ्य केंद्र और अस्पताल चल रहे हैं। केंद्र से आपने जितना राशन मांगा, जितनी सहायता मांगी वह सब आपको मिली, लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री व्यस्त हैं। आपके पास इश्तिहार देने के पैसे हैं लेकिन दिल्ली के गरीबों की और कर्मचारियों की देखरेख करने के लिए आपको केंद्र से सहायता चाहिए।
मलिक ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा देश में आयुष्मान योजना चलाई गई जिसमें गरीबों को ₹500000 तक का इलाज मुफ्त में मिला । इस योजना के अंतर्गत देश में एक करोड़ से ऊपर लोगों ने इससे लाभ प्राप्त कर पाया क्योंकि आप ओछी राजनीति में विलीन होकर राज कर रहे हैं। मत भूलिए कि दिल्ली में सभी मुख्य सुपरस्पेशलिटी अस्पताल केंद्र सरकार द्वारा संचालित हैं जिसमें दिल्ली सरकार का कोई योगदान नहीं तो फिर देश के नागरिकों के साथ यह तुष्टीकरण क्यों?