असंध,09.12.19- हरियाणा सरकार भगवद्गीता के संदेश को धरातल पर ग्राम-ग्राम से लेकर विश्व-ग्राम अर्थात वैश्विक पटल तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है। आइए बेहतरीन जीवन जीने की कला सिखाने वाले इस अद्भुत ग्रंथ को अपने हृदयों और व्यवहार में भी उतारें। कोटि तीर्थ कुरलन में तीर्थ समिति और कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित गीता जयंती समारोह में मुख्य अतिथि प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान ने यह टिप्पणी की ।

जय श्री कोटी तीर्थ सोसाइटी कुरलन के प्रधान प्रेम जून ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की । प्रो. चौहान ने कहा की भगवद्गीता मात्र पुस्तकालय या मंदिर में सजा कर रखने वाली पुस्तक नहीं है अपितु नियमित स्वाध्याय के महत्व की है । इसमें ज़िंदगी की चुनौतियों से निपटने के सूत्र छिपे हैं जो इसके नियमित स्वाध्याय से ही समझ में आ सकते हैं। उन्होंने कहा कि मनोहर सरकार गीता ज्ञान को पाठ्यक्रम का अंग बनाने के लिए भी संकल्पबद्ध है।

कुरुक्षेत्र डेवलपमेंट बोर्ड की ओर से आए कलाकार गीता सिंह, बंटी पांचाल, राज कुमार, धर्मवीर सिंह , सोनू पांचाल, अंजू देवी, ममता देवी, विवेक शर्मा, राहुल ने हरयाणवी संस्कृति से ओत प्रोत लोक गीतों की प्रस्तुति दी । जिसकी सभी ग्रामवासियों ने मुक्त कंठ से प्रशंसा की । स्थानीय कलाकार संजय शर्मा व मोहेंद्र ने भी प्रस्तुति दी ।

कार्यक्रम को सफल बनाने में जय श्री कोटी तीर्थ सोसाइटी कुरलन के पदाधिकारियों व सदस्यों का सक्रिय योगदान रहा । कार्यक्रम आयोजन में उप प्रधान कृष्ण चहल, सचिव धर्मबीर जून, लेखाकार अशोक शर्मा विशेष रूप से सक्रिय व उपस्थित रहे ।

कार्यक्रम में केहर सिंह, सुरेश जून, महेंद्र शास्त्री, राम दयाल शर्मा, प्रीतु शर्मा , हरसिंह चहल , सतीश चहल उपस्थित रहे ।