रोहतक,11.05.16- बेटियों को तकनीकी तौर पर दक्ष बनाकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में राह गु्रप फाउंडेशन व महिला आईटीआई हिसार ने बड़ी सार्थक पहल की है। योजना के तहत महिला एवं बाल विकास विभाग की मदद से शहर के विभिन्न स्थानों व छह गांवों में ब्यूटी पार्लर व बुटिक ट्रेनिंग कार्यक्रम चलाया जाएगा। जिसके तहत आईटीआई ट्रेंड स्टाफ व राह गु्रप का विशेष ट्रेंड स्टॉफ लाडलियों को उनके क्षेत्र के आस-पास ही प्रशिक्षण प्रदान करेगा। यह जानकारी देते हुए राह गु्रप फाउंडेशन की जिला रोहतक की तकनीकी विभाग की इंवेट कॉर्डिनेटर पूनम पण्डित ने बताया कि प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए छात्राओं/महिलाओं के लिए किसी भी प्रकार की वर्ग/ जाति या आय की कोई सीमा नहीं है। हालांकि उनके लिए आयु सीमा 14 से 45 वर्ष रखी गई है। महिलाओं को अपनी पहचान से संबंधित कोई भी एक दस्तावेज व दो पासपोर्ट साईज फोटो जमा करवाना होगा। इस संबंध में अधिक जानकारी संस्था की वैबसाईट द्धह्लह्लश्च://222.ह्म्ड्डड्डद्धद्दह्म्शह्वश्चद्बठ्ठस्रद्बड्ड.ष्शद्व से प्राप्त की जा सकती है।  
पहले चरण में रोहतक के छह गांव:
प्रदेश में बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने की कड़ी में रोहतक, फतेहाबाद, हिसार, जींद व भिवानी जिले के छह-छह गांवों का चयन किया जाएगा। हालांकि संस्था ने अभी तक इस मामले में गांवों की सूचि जारी नहीं की है। गांव में महिलाओं की रुचि के हिसाब से गांव तय किए जाएंगे। उसके बाद दस-दस गांवों में यह प्रशिक्षण दिया जाएगा।
विधवाओं को विशेष छूट:-
संस्था की ओर से जारी सीटों से आवेदकों की संख्या अधिक होने पर 5 फीसदी विधवा/तलाकशुदा महिलाओं के लिए आरक्षित होगी। तय शुल्क व अन्य मामलों में किसी भी फेरबदल के मामलों में अन्तिम फैसला संस्था के चेयरमैन/ कार्यकारिणी का होगा।
हर बेटी को बनाएंगे दक्ष:
हमारा मकसद प्रत्येक बेटी को उसकी योग्यता के अनुसार तकनीकी ज्ञान प्रदान करके उन्हें स्वरोजगार के काबिल बनाना है। इसके लिए प्रदेश के विभिन्न जिलों में राह गु्रप फाउंडेशन क्षेत्र की विभिन्न संस्थाओं की मदद से प्रशिक्षण दिलवाया जाएगा। बेटियों को उनकी रुचि व दक्षता के हिसाब से न केवल प्रशिक्षण दिलवाया जाएगा, बल्कि उन्हें स्व-रोजगार के विकल्पों की जानकारी दी जाएगी।
नरेश सेलपाड़, चेयरमैन राह ग्रुप फाउंडेशन।
क्या-क्या सिखाया जाएगा:-
इस 45 दिवसीय कार्यक्रम में थे्रडिंग,वैक्स, मैनीक्योर, पैडीक्योर, 10 हेयर स्टाईल, नेल पॉलिस, कटिंग, साड़ी पहनना, मेहन्दी लगाना, फेसीयल, मेक-अॅप, ब्लीचिंग सहित  प्राकृतिक तरीकों मेक-अॅप करना सिखाया जाएगा। साथ ही ब्यूटी पार्लर से जुड़ी अन्य जानकारी प्रदान की जाएगी।