चंडीगढ़ 26 अप्रैल। ताई क्वांडों में विभिन्न मेडल जीत चुके 8 वर्षीय अंशुमन ने अपनी जीत का सफर जारी रखते हुए ओपन नैशनल ताई क्वांडो चैंपियनशिप 2017 में ततीन मेडल जीत लिये हैं। अंशुमन ने गोल्ड, सिल्वर एवं ब्राऊंज मेडल पर कब्जा जमाया। इस प्रतियोगिता में अंशुमन हरियाणा का प्रतिनिधित्व किया। इससे पूर्व जीटीए कप ताई क्वांडो चैंपियनशिप में 8 वर्षीय अंशुमन ने चैलेंज कप जीतकर शहर का नाम रोशन कर दिया था। अंशुमन ने अपने विरोधी को तकनीक के साथ हराकर कप जीत लिया। एमरॉल्ड मार्शल आर्ट एकेडमी के खिलाड़ी अंशुमन की फाइट देखकर सभी हैरान रह गए। अंशुमन ने एक बार फिर से साबित कर दिया कि हौंसलों की उड़ान की कोई सीमा नहीं होती। अंशुमन को मास्टर शिवराज घर्ती टे्रंड कर रहे हैं। प्रतियोगिता में लगभग 400 से अधिक खिला$डिय़ों ने भाग लिया। इससे पूर्व अंशुमन ने हिमालय नेशनल ताई क्वांडो कप प्रतियोगिता में एक स्वर्ण और कांस्य पदक जीता था। अंशुमन की उम्र भले ही छोटी हो, लेकिन उसके हौंसले बड़े बुलंद है और वह आगे चलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत का नाम रोशन करना चाहता है। अंशुमन ने राष्ट्रीय ताई क्वांडों प्रतियोगिता में जब फाइट शुरु की, तो प्रतिद्वंदी उसके आगे टिक नहीं पाये। अंशुमन एमेरॉड मार्शल ऑर्ट अकादमी में ट्रेनिंग कर रहा है और यूनिवर्सल ताई क्वांडों टूर्नामेंट 2016 में एक सिल्वर एवं दो ब्राऊंज मैडल जीते थे।
अंशुमन ने कहा कि उसका सपना है कि वह अपने गुरु शिवराज घरर्ती एवं कविता मैम का नाम रोशन करुं। उनके आर्शीवाद से अंशुमन इतनी सफलता हासिल कर पाया और चंडीगढ़ का नेतृत्व कर रहा है। शिवराज घरर्ती और कविता राय ने बताया कि उनकी एमेरॉड मार्शल ऑर्ट अकादमी के खिलाडिय़ों ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए पदक हासिल किए हैं। अंशुमन अच्छा खिलाड़ी है और आगे चलकर अच्छी फाइट भी खेलेगा। इस प्रकार के प्रदर्शन से उम्मीद है जल्दी ही अंशुमन भारत का नाम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रोशन करेगा।