धर्मशाला, 14 अप्रैल: खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री किशन कपूर ने संविधान निर्माता एवं भारत रत्न डॉ. भीम राव अम्बेडकर की 127वीं जंयती पर शुभकामनाएं देते हुए समरस समाज के निर्माण के लिए सभी लोगों से उनके दिखाए मार्ग पर चलने का आह्वान किया है । उन्होंने कहा कि समाज में व्याप्त कुरीतियों को सभी के सहयोग से ही मिटाया जा सकता है। कपूर आज धर्मशाला नगर में स्थित गुरू रविदास मंदिर में डॉ. भीम राव अम्बेडकर की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करते हुए बाल रहे थे। इस मौके उन्होंने डॉ. अम्बेडकर के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी।  

   किशन कपूर ने कहा कि 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदश के महू में जन्मे डॉ. भीम राव अम्बेडकर, जिन्हें बाबासाहेब के नाम से भी जाना जाता है, ने ताउम्र दलितों सहित समाज के सभी शोषित-वंचित वर्गों के अधिकारों की बात की। बाबासाहेब ने अपने कार्यों की बदौलत करोड़ों लोगों के दिलों में जगह बनाई है। उन्होंने समाज में व्याप्त बुराइयों के लिए सबसे ज्यादा अशिक्षा को जिम्मेदार माना था। उन्होंने महिलाओं की शिक्षा पर जोर दिया एवं मजदूर वर्ग के कल्याण के लिए भी उल्लेखनीय कार्य किया। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब जीवन भर पर्यन्त समाज को एक डोर में बांधने के लिए प्रयासरत रहे। 

डॉ. अम्बेडकर के सम्मान में ‘पंचतीर्थ’ 

उन्होंने कहा कि भारत सरकार बाबासाहेब के सम्मान में पांच स्थलों को ‘पंचतीर्थ’ के रूप में विकसित कर रही है। इन स्थानों में, मध्यप्रदेश के महू स्थित उनका जन्मस्थल, लन्दन में वह स्थल जहां वे ब्रिटेन में अध्ययन के दौरान ठहरे थे, नागपुर में दीक्षा भूमि, दिल्ली में महापरिनिर्वाण स्थल और मुम्बई में चैतन्य भूमि शामिल हैं। 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण योजना बाबासाहेब के नजरिए के अनुरूप उठाया कदम

उन्होंने भारत सरकार की महत्वकांक्षी ‘‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण योजना’’ का जिक्र करते हुए इसे गरीबों एवं वंचितों के कल्याण के बाबासाहेब के नजरिए के अनुरूप उठाया कदम बताया। उन्होंने कहा कि यह विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना है और गरीबों के हित में केंद्र सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है। इस योजना के बारे मंे बताते हुए उन्होंने कहा कि इसके अन्तर्गत अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में सरकार की ओर से पांच लाख रूपये तक की चिकित्सा बीमा सुरक्षा दी जाएगी।

किशन कपूर ने कहा कि यह एक कैशलेस सुविधा है तथा अस्पताल में भर्ती होने पर मरीज को इलाज के लिए कोई भी भुगतान कैश में नहीं करना पड़ेगा। उनके इलाज पर होने वाले पांच लाख रुपये तक का खर्च सरकार उठाएगी। इस योजना के लाभार्थी देश में कहीं भी पैनल में शामिल किसी भी प्राईवेट या सरकारी अस्पताल में इलाज करवा सकेंगे । उन्होंने कहा कि यह योजना ‘‘आयुष्मान भारत’’ के तहत लाई गई है। देश के गरीब तबके के करीब 10 करोड़ परिवारों के 50 करोड़ लोगों को हर साल 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवरेज दिया जाएगा। 
इस अवसर पर मिल्खी राम, तजेन्द्र कौंडल, सचिन शर्मा तथा नीतीश अरोड़ा ने भी बाबासाहेब की जीवन एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला।

बैसाखी पर्व की दी बधाई

इससे पूर्व, किशन कपूर ने धर्मशाला के कोतवाली बाजार में स्थित गुरूद्वारा में माथा टेका और सभी को बैसाखी पर्व की बधाई दी। उन्होंने कहा कि नई फसल के कटने से जुड़ा यह पर्व हमारी समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं तथा कृषि संस्कृति का परिचायक है। उन्होंने सभी के जीवन में सुख-समृद्धि व प्रसन्नता की कामना की ।

उन्होंने कहा कि आज ही के दिन श्री गुरू गोविन्द सिंह ने देश एवं समाज की रक्षा के लिए खालसा पंथ की स्थापना की थी। श्री गुरू गोविंन्द सिंह को अवतारी महापुरूष बताते हुए खाद्य आपूर्ति मंत्री ने कहा कि विदेशी आक्रमणों से हो चुकी देश की प्रतिष्ठा को पुनः कायम करने तथा नौजवानों में स्वाभिमान के संचार के लिए खालसा पंथ की स्थापना करते हुए आत्म बलिदान का जो उदाहरण प्रस्तुत किया, वह प्रेरणादायी है। 
गुरूद्वारा प्रबन्धन कमेटी के अध्यक्ष सरदार स्वर्णजीत तथा गुरू रविदास सभा के अध्यक्ष मिल्खी राम ने मुख्यातिथि का स्वागत किया।
खाद्य आपूर्ति मंत्री ने कोतवाली बाजार गुरूद्वारा के गुम्बद के लिए एक लाख रुपये देने की घोषणा की।
इस अवसर पर मंडल अध्यक्ष कैप्टन रमेश अटवाल, महामंत्री डॉ.विजय शर्मा, एसडीएम धर्मशाला धर्मेश रामोत्रा, क्षेत्रीय प्रबन्धक एचआरटीसी पंकज चड्डा, कमला पटियाल, पार्षद तजिन्द्र कौर, विमला देवी, सर्वजीत, वीरू बालिया, तेज सिंह, राजिन्द्र, जगदीश, जनजातीय मोर्चा के जिलाध्यक्ष रमेश जरयाल, मंडल उपाध्यक्ष प्रदीप कुमार, एसटी मोर्चा के अध्यक्ष सुभाष चडलू, कैप्टन पुरूषोत्तम चंद, संयुक्त निदेशक खाद्य आपूर्ति सीपी जिस्टू, एरिया मैनेजर खेम चन्द, सुनील मनोचा, करनैल सिंह, कै0 प्रेम चन्द, यशपाल सभ्रवाल, अशोक कुमार, प्रदेश मीडिया सहप्रभारी राकेश शर्मा, नरेन्द्र पठानिया, गुरूद्वारा प्रबन्धक कमेटी तथा गुरू रविदास सभा के सदस्यों सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मौजूद थे।
                   000