चण्डीगढ़, 23 सितंबर - हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि शहीद देश और समाज के लिए गौरव का प्रतीक हैं और हमें इनकी शहादत पर गर्व है। शहीद नरेंद्र सिंह ने भी अपनी जान देकर देश की रक्षा की और आज हम पूरी तरह से उनके परिवार के साथ खड़े हैं।

श्री मनोहर लाल आज जिला सोनीपत के गांव थाना कलां में शहीद नरेंद्र सिंह के घर पहुंचे और उनकी धर्मपत्नी संतोष व पुत्र मोहित को सांत्वना दी और ढांढस बंधाया।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि दुख की इस घड़ी में हम परिवार के साथ हैं और साथ रहेंगे। उन्होंने कहा कि परिवार को संभालना हमारी जिम्मेदारी है और दुश्मनो को जवाब देश की सेना देगी। उन्होंने कहा कि शहीद के परिवार के एक सदस्य को राज्य सरकार नौकरी देगी और 50 लाख रुपये उनके खाते में भेजे जा चुके हैं। इसके साथ ही ओबीसी बैंक द्वारा भी दो लाख 21 हजार रुपये की आर्थिक मदद परिवार को दी जाएगी जो आरटीजीएस के माध्यम से शहीद के परिजनों के खाते में डाली जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव के राजकीय स्कूल का नाम शहीद नरेंद्र सिंह के नाम पर रखा जाएगा। इसके अलावा शहीद के नाम पर एक स्मारक और शहीद प्रवेश द्वार का निर्माण भी करवाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि गांव के ही वर्ष 2009 में सुकमा मध्य प्रदेश में शहीद हुए एसआई जयपाल पुत्र लालचंद की पत्नी भी उनसे मिली थी। उन्होंने कहा कि उस समय शहीद के परिवार को आर्थिक मदद व नौकरी की घोषणा की गई थी लेकिन उन्हें अभी तक नहीं मिली है। इस पर मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि शहीद जयापल के पुत्र को भी हरियाणा सरकार द्वारा सरकारी नौकरी दी जाएगी।

इस अवसर पर उनके साथ मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन, भाजपा जिलाध्यक्ष डा. धर्मवीर नांदल, गुलशन ठेकेदार, प्रीतम खोखर, सतीश सेहरी, नीरज आत्रेय, सोनिया अग्रवाल, रामनिवास रोहणा, मनोज शर्मा, सरपंच बलराम, बीर पहलवान, उपायुक्त विनय सिंह, एसपी प्रतीक्षा गोदारा, एसडीएम श्वेता सुहाग, डीएसपी हरेंद्र, तहसीलदार प्रदीप कुमार सहित सैकड़ों लोग मौजूद थे।