सोलन -दिनांक 13.12.2019
जिला स्तरीय अनुश्रवण एवं समीक्षा समिति की बैठक आयोजित

अतिरक्त जिला दंडाधिकारी सोलन विवेक चंदेल ने आज यहां एकीकृत बाल विकास योजना, पोषाहार तथा किशोरी योजना, महिला महिलाओं की सुरक्षा एवं सशक्तिकरण, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ तथा प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए गठित जि़ला स्तरीय अनुश्रवण एवं समीक्षा समिति की बैठक की अध्यक्षता की।
उन्होंने कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा महिलाओं, बच्चों और किशोरियों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं। इन योजनाओं का उद्देश्य लक्षित समूहों को विभिन्न लाभ प्रदान करना और उन्हें बेहतर भविष्य के लिए तैयार करना है। उन्होंने जि़ला कार्यक्रम अधिकारी तथा सभी बाल विकास परियोजना अधिकारियों को निर्देश दिए कि योजनाओं के लाभार्थियों का चयन निर्धारित मापदण्डों के अनुसार किया जाए।
उन्होंने कहा कि सोलन जि़ले में पोषाहार कार्यक्रम के तहत छः माह से तीन वर्ष तक के आयु वर्ग में अभी तक तक 24,201 बच्चों को पोषाहार उपलब्ध करवाया गया। तीन से छः वर्ष आयुवर्ग में 6507 बच्चों को, 8045 गर्भवती एवं धातृ महिलाओं तथा 46 किशोरियों को इस समयावधि में पोषाहार उपलब्ध करवाया गया।
विवेक चंदेल ने कहा कि जिला में निर्माणाधीन आंगनबाड़ी केंद्रों के भवन निर्माण कार्य पूरा किया शीघ्र पूरा किया जाए। आंगनबाड़ी केंद्रों में जिला के सभी समेकित बाल विकास अधिकारी अपने-अपने आंगनबाड़ी केंद्रों में शौचालय व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था को सुचारू बनाए रखें ताकि इन केंद्रों में पढ़ रहे बच्चों को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो।
उन्होंने कहा कि सोलन जि़ले में महिला स्वयं सहायता समूह सराहनीय कार्य कर रहे हैं और इनके माध्यम से लोग लाभान्वित हो रहे हैं। वर्तमान में जि़ले में 1826 स्वयं सहायता समूह कार्यरत हैं जिनकी कुल बचत लगभग 12.52 करोड़ रुपये है। उन्होंने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में बेटी है अनमोल योजना के प्रथम घटक के अंतर्गत जि़ले 229 लाभार्थियों को 24.86 लाख रुपये की अनुदान राशि प्रदान की गई है। योजना के द्वितीय घटक में छात्रवृति योजना के तहत 2551 छात्रों को लगभग 56.68 लाख रुपये की छात्रवृति प्रदान की गई।
मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के अंतर्गत 62 लाभार्थियों को 24.80 लाख रुपये की राशि प्रदान की गई। उन्होंने कहा कि विधवा पुनर्विवाह योजना के तहत 10 लाभार्थियों पर 5 लाख रुपये व्यय किए गए हैं। उन्होंने कहा कि मदर टेरेसा मातृ सम्बल योजना के तहत जि़ले में 638 माताओं तथा 1047 शिशु लाभार्थी को लगभग 26.76 लाख रुपये वितरित किए गए हैं।
बैठक में महिलाओं की सुरक्षा एवं सशक्तिकरण के लिए विभिन्न कानूनों पर भी विचार-विमर्श किया गया। बैठक में जानकारी दी गई कि वर्ष 2019-20 में महिलाओं को विभिन्न कानूनों की जानकारी प्रदान करने के लिए 1680 जागरूकता शिविर आयोजित किए गए जिनमें लगभग 25,200 महिलाओं ने भाग लिया।
विवेक चंदेल ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन को निर्देश दिए कि शिशु लिंगानुपात में संतुलन बनाए रखने के लिए समय-समय पर जिले में स्थापित जांच केंद्रों का औचक निरीक्षण सुनिश्चित करें।
इसके अतिरिक्त बाल आश्रम के सफल संचालन के लिए निगरानी समिति की बैठक भी आयोजित की गई। बाल विवाह निषेध अधिनियम के तहत जिला में एक मामला दर्ज किया गया। उन्होंने सभी समेकित बाल विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि बाल विवाह निषेध अधिनियम के संबंध में ग्राम स्तर तक लोगों को जागरूक बनाएं।
बैठक में जानकारी दी गई कि किशोरी योजना के अंतर्गत जिले में 46 किशोरियों को लाभान्वित किया गया। योजना के अंतर्गत 11 से 14 वर्ष तक की किशोरियों को स्वास्थ्य, स्वच्छता व पोषण की जानकारी प्रदान की जा रही है।
बैठक में जानकारी दी गई कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत जिले में 8757 पात्र महिलाओं को लाभान्वित किया गया है। योजना के अंतर्गत गर्भवती महिलाओं को शिशु के जन्म से पूर्व एव उपरान्त पर्याप्त विश्राम उपलब्ध करवाना भी लक्ष्य है। योजना के तहत पहली बार मां बनने वाली गर्भवती महिला को औसतन 6000 रुपए के लाभ प्रदान किए जा रहे हैं।
जि़ला कार्यक्रम अधिकारी वंदना चौहान ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया।
सहायक आयुक्त भानु गुप्ता, पुलिस उप अधीक्षक योगेश दत्त जोशी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजन उप्पल, जि़ला कल्याण अधिकारी बीएस ठाकुर, जिला खाद्य, नागरिक आपूर्ति नियंत्रक मिलाप शांडिल, सभी खण्डों के बाल विकास परियोजना अधिकारी तथा बाल कल्याण समित के अध्यक्ष विजय लांबा बैठक में उपस्थित थे।

====================================================

सोलन - दिनांक 13.12.2019
पोषण अभियान के लिए गठित जिला स्तरीय अभिसरण समिति की बैठक आयोजित

अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी सोलन विवेक चंदेल ने आज यहां पोषण अभियान के लिए गठित जिला स्तरीय अभिसरण समिति की बैठक की अध्यक्षता की।
उन्हांेने कहा कि सोलन जिला गर्भवती महिलाओं, माताओं, एवं शिशुओं को स्वस्थ रखने एवं कुपोषण मिटाने की दिशा जिला को राष्ट्रीय स्तर पर पोषण अभियान के लिए जिला स्तरीय कन्वरजेंस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा कि समेकित बाल विकास परियोजना के अंतर्गत बेहतरीन कार्य करने वाले आंनगबाड़ी केंद्रों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत तकनीक आधारित कॉमन एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में बेहतरीन कार्य करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को 500 रूपये तथा आंगनबाड़ी सहायिका को 250 रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जा रही है।
उन्होंने कहा कि पोषण अभियान के अंतर्गत एक नवाचार योजना तैयार की जा रही है। योजना के अंतर्गत खाद्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा डॉ. यशवंत सिंह परमार बागवानी एवं वानिकी विश्विद्यालय नौणी, सोलन से मामला उठाया गया है।
उन्होंने कहा कि सोलन जिला में पोषण अभियान को सफल बनाने और सभी को स्वस्थ रखने के लिए विभिन्न स्तरों पर व्यापक कार्य किया जा रहा है। जिला के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में जहां महिलाओं को पोषण अभियान की व्यवहारिक जानकारी दी जा रही है वहीं उन्हें यह भी बताया जा रहा है कि स्थानीय स्तर पर कौन-कौन से पौष्टिक आहार उपलब्ध हैं। जिला के सभी 1281 आंगनबाड़ी केन्द्रों में पोषण के संबंध में जानकारी सत्र आयोजित किए जा रहे हैं। प्रत्येक माह की 15 एवं 24 तारीख को आयोजित किए जाने वाले इन सत्रों में महिलाओं को स्तनपान के महत्व से अवगत करवाया जा रहा है और शिशु एवं बच्चों को दिए जाने वाले पौष्टिक आहार की उचित मात्रा की जानकारी दी जा रही है।
बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी वंदना चौहान ने कहा कि सितम्बर माह को पोषण माह के रूप में आयोजित किया गया। इस दौरान जिला, विकास खंड व पंचायत स्तर पर पोषण के प्रति जागरूकता उत्पन्न करने के लिए नियमित कार्यक्रम आयोजित किए किए गए। खंड स्तर पर विद्यालयों एवं महाविद्यालयों में जागरूकता रैलियां निकालकर पोषण की जानकारी प्रदान की गई।
सहायक आयुक्त भानु गुप्ता, पुलिस उप अधीक्षक योगेश दत्त जोशी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजन उप्पल, जि़ला कल्याण अधिकारी बीएस ठाकुर, जिला खाद्य, नागरिक आपूर्ति नियंत्रक मिलाप शांडिल, सभी खण्डों के बाल विकास परियोजना अधिकारी तथा बाल कल्याण समित के अध्यक्ष विजय लांबा बैठक में उपस्थित थे।

======================================================

सोलन -दिनांक 13.12.2019
नशा समाज व देश की उन्नति के लिए अभिशाप-एनके शर्मा
बरोटीवाला विश्वविद्यालय में छात्रों को नशोखोरी के विरूद्ध किया जागरूक

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बद्दी एनके शर्मा ने कहा कि नशा आमजन, परिवार, समाज व देश की उन्नति के लिए एक अभिशाप है तथा नशे के सेवन से देश की युवा शक्ति नकारा हो रही है। एनके शर्मा आज सोलन जिला के नालागढ़ उपमंडल के अन्तर्गत कालूझंडा स्थित बरोटीवाला विश्वविद्यालय में नशा निवारण अभियान में उपस्थित छात्रों को संबोधित कर रहे थे।
इस कार्यक्रम का आयोजन मादक द्रव्यों के सेवन एवं मदिरा व्यसन पर रोक के लिए 15 दिसंबर, 2019 तक प्रदेश सरकार द्वारा कार्यान्वित किए जा रहे विशेष अभियान के अंतर्गत किया गया।
कार्यक्रम में प्रथम भारतीय रिजर्व बटालियन बनगढ़, जिला ऊना द्वारा नशाखोरी पर आकर्षक नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया गया। जिसमें उपस्थित छात्रों को नशे से पीडि़त व्यक्ति की सामाजिक व आर्थिक दशा पर प्रकाश डाला गया।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा कि कि नशे के समूल नाश के लिए सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता है। प्रदेश सरकार द्वारा नशा उन्मूलन के लिए चलाया गया यह अभियान सराहनीय कार्य है। उन्होंने उपस्थित लोगांे से आग्रह किया कि निःसंकोच नशामुक्ति केंद्र में जाएं तथा नशे की दुष्प्रवृति से स्वयं को बचाएं। उन्होंने कहा कि नशा न केवल व्यक्ति को शारीरिक व मानसिक रूप से अक्षम बनाता है अपितु इस दुष्प्रवृति में संलिप्त व्यक्तियों के परिवार भी नष्ट हो जाते हैं।
उन्होंने कहा कि कि नशे की हानियों से परिचित होते हुए भी आज व्यक्ति नशा करता है और नशे का पूरी तरह आदी हो जाने पर पीडि़त व्यक्ति का नशे के चंगुल से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है। उन्होंने कहा कि नशे से पीडि़त व्यक्ति किसी भी प्रकार से राष्ट्र का भला नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि अक्सर व्यक्ति मानसिक परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए नशा लेना आरंभ करता है और समय के साथ उसे पता ही नहीं चलता कि कब वह नशे का आदि हो गया।
एनके शर्मा ने युवाओं से आग्रह किया कि अपने आस-पड़ोस में भी नशे की हानियों के बारे में लोगों को अवगत करवाएं तथा नशे के कारोबार के संबंध में जानकारी प्राप्त होते ही तुरंत पुलिस को सूचित करें। उन्होंने कहा कि पुलिस को नशे के सौदागरों की सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाता है। पुलिस द्वारा हिमाचल ड्रग फ्री ऐप आरंभ की गई है। कोई भी व्यक्ति इस ऐप को अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड करके नशे के सौदागरों की जानकारी पुलिस को दे सकता है। उन्होंने सभी से आग्रह किया इस ऐप को अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड करें और इसका प्रयोग करें।
उन्होंने अध्यापकों व अभिभावकों की भूमिका पर विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यदि किसी बच्चे के अभिभावक नशे के आदी हैं तो सर्वप्रथम उन्हें नशा त्यागना होगा। ऐसे अभिभावक अपना उपचार तुरंत किसी नशामुक्ति केंद्र में करवाएं। उन्होंने कहा कि अक्सर युवा किसी दबाव या देखादेखी में नशे का सेवन करते हैं और उन्हें यह पता ही नहीं चलता कि वे कब नशे के आदी बन गए हैं। उन्होंने कहा कि घर पर बच्चों के सामने किसी भी रूप में नशे का सेवन नहीं किया जाना चाहिए।
इस अवसर पर छात्रों को नशे के विरूद्ध शपथ भी दिलाई गई।
इस अवसर पर विश्वविद्यालय के प्राध्यापक व बड़ी संख्या में छात्र उपस्थित थे।

========================================================

सोलन दिनांक 13.12.2019
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने नशाखोरी के विरूद्ध जागरूक किए 691 प्रतिभागी
आईटीआई सोलन में 76 प्रतिभागियों को बताई नशे की हानियां

प्रदेश सरकार द्वारा मादक द्रव्यों के सेवन एवं मदिरा व्यसन पर रोक के लिए 15 दिसंबर, 2019 तक प्रदेश सरकार द्वारा कार्यान्वित किए जा रहे विशेष अभियान के अंतर्गत आज जिल के विभिन्न स्थानों पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग के एक प्रवक्ता ने दी।
उन्होंने कहा कि इन जागरूकता कार्यक्रमों में प्रतिभागियों को बताया गया कि नशा व्यक्ति के शरीर पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। नशा पीडि़त व्यक्ति को कैंसर जैसे भयानक रोग होने का खतरा बढ़ जाता है। नशा पीडि़त व्यक्ति शीघ्र क्रोधित हो जाता है और कई प्रकार के श्वास रोग उसे ग्रसति कर देते हैं।
इसी कड़ी में स्वास्थ्य विभाग द्वारा अर्की चिकित्सा खंड की राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बुघार में 75, चंडी खंड की राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बरोटीवाला में 180, धर्मपुर खंड के जेएल पब्लिक स्कूल शामती में 130, सायरी खंड की आईटीआई सायरी में 20, नालागढ़ खंड की राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मितियां में 65, राजकीय उच्च पाठशाला डंग में 40 तथा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नंगल में 181 छात्रों को नशे से होने वाली हानियों के बारे में अवगत करवाया गया।
औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान सोलन में नशा निवारण अभियान के अंतर्गत 76 प्रशिक्षुओं को नशे से होने वाली विभिन्न हानियों के बारे में जानकारी प्रदान की गई। इस दौरान छात्रों की निबंध लेखन व चित्रकला प्रतियोगिता भी करवाई गई।
इस अवसर पर प्रतिभागियों को नशे के विरूद्ध शपथ भी दिलवाई गई।

===========================================================

सोलन दिनांक 13.12.2019
उपमंडलाधिकारी विकास शुक्ला ने जनमंच प्रचार वाहन को किया रवाना

उपमंडलाधिकारी अर्की विकास शुक्ला ने आज अर्की विधानसभा क्षेत्र के भूमती में 22 दिसम्बर, 2019 को आयोजित होने वाले जनमंच के लिए अर्की से जनमंच प्रचार वाहन को रवाना किया।
उन्होंने कहा कि इस जनमंच की अध्यक्षता प्रदेश की शहरी विकास, नगर नियोजन एवं आवास मंत्री सरवीण चौधरी करेंगी। जनमंच राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय भूमती में प्रातः 10.00 बजे आरम्भ होगा। उन्होंने कहा कि इस जनमंच में कुनिहार विकास खण्ड की ग्राम पंचायत भूमती, सरली, शहरोल, बसन्तपुर, बड़ोग, बखालग, सूरजपुर, सरयांज तथा बातल की समस्याओं पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।
उन्होंने जनमंच के लिए चिन्हित 09 ग्राम पंचायतों के पंचायत प्रधानों एवं अन्य प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वे अपनी-अपनी ग्राम पंचायत में लोगों को 22 दिसम्बर को आयोजित होने वाले जनमंच के विषय में जागरूक बनाएं। उन्होंने पंचायत सचिवों से आग्रह किया कि वे लोगों को यह जानकारी दें कि इस जनमंच में केवल उन्हीं आवेदनों पर विचार किया जाएगा जो 20 दिसम्बर, 2019 तक प्राप्त होंगे।
उन्होंने कहा कि लोगों को पूर्व जनमंच गतिविधियों के विषय में भी विस्तार से बताया जाए ताकि सभी इनसे लाभान्वित हो सकें।
उन्होंने कहा कि चिन्हित ग्राम पंचायतों में लोगों को विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं के विषय में जानकारी देने और निर्माणाधीन अथवा कार्यान्वित की जा रही योजनाआंे का निरीक्षण करने के लिए पूर्व जनमंच गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं।
उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि पूर्व जनमंच गतिविधियों में आयोजित होने वाले जागरूकता शिविरों का लाभ उठाएं और अधिकारियों को विभिन्न योजनाओं के विषय में जानकारी प्रदान करें।
.0.
.0.




.0.


.0.